मौसम विभाग ने दी चेतावनी, इन राज्यों में है अगले 24 घंटों में भारी बारिश के आसार

मौसम विभाग के अनुसार देश में वर्तमान में हो रही बरिश के लिए मानसून नहीं वरन नए वेदर सिस्टम जिम्मेदार हैं। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में बनने वाली नमी, छोटे बादलों का स्वरूप धर कर देश के विभिन्न राज्यों में मौसम को प्रभावित कर रहे हैं और बारिश की वर्तमान गतिवधियों को संचालित कर रहे।

भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department) के अनुसार भारत के कुछ राज्यों में एक बार फिर से भारी बारिश की संभावनाएं निर्मित हो रही हैं। भारत में मानसून की उपस्थिति अब अपने अंतिम चरण पर है, जबकि देश में बनने वाले नए वेदर सिस्टम अभी भी देश के विभिन्न प्रदेशों के कई इलाकों में सामान्य से लेकर तेज बारिश की गतिविधियां संचालित कर रहे हैं।

Also Read-Indian Army Female Agniveer Bharti 2022 : भारतीय सेना में महिला अग्निवीर पदों पर भर्ती, जानिए आवेदन प्रक्रिया और आवश्यक योग्यताएं

अगले 24 घंटों के दौरान इन राज्यों में है भारी बारिश के आसार

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में मध्य प्रदेश,छत्तीसगढ़, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, विदर्भ, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड, दक्षिण बिहार, उत्तराखंड और तटीय कर्नाटक में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। इसके साथ ही , सिक्किम, पूर्वोत्तर भारत, बिहार के कुछ हिस्सों, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू संभाग, कश्मीर, पूर्वी राजस्थान, गुजरात के शेष हिस्सों, केरल और आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश संभव है।

Also Read-विश्व का भव्यतम देवालय होगा अयोध्या का निर्माणाधीन ‘Ram Mandir’, 1800 करोड़ है अनुमानित लागत

यहां हो सकती है हल्की बारिश

दिल्ली मौसम विभाग के अनुसार लद्दाख,जम्मू कश्मीर, उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्सों, तमिलनाडु, लक्षद्वीप और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में बूंदाबांदी और हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है। इन इलाकों में आज तेज बारिश की सम्भावना से मौसम विभाग ने इंकार किया है।

मानसून नहीं वरन नए वेदर सिस्टम जिम्मेदार

मौसम विभाग के अनुसार देश में वर्तमान में हो रही बरिश के लिए मानसून नहीं वरन नए वेदर सिस्टम जिम्मेदार हैं। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में बनने वाली नमी, छोटे बादलों का स्वरूप धर कर देश के विभिन्न राज्यों में मौसम को प्रभावित कर रहे हैं और बारिश की वर्तमान गतिवधियों को संचालित कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के कुछ हिस्से, ओडिसा के कई जिले और साथ ही कर्नाटक के कई इलाके इन नए वेदर सिस्टम्स के प्रभाव में दिख रहे हैं।