स्मृति ईरानी से हुई तीखी झड़प, सोनिया गाँधी ने कहा ‘डोन्ट टॉक टू मी’

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी के द्वारा नवनियुक्त राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू के लिए की गई विवादित टिप्पणी के विरोध में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के द्वारा सदन में नारेबाजी की गई। सोनिया गाँधी ने स्मृति ईरानी से कहा 'डोन्ट टॉक टू मी' ।

जानकारी के अनुसार संसद में मॉनसून सत्र के दौरान पक्ष और विपक्ष के नेताओं में तीखी नोकझोंख हो गई। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) के द्वारा नवनियुक्त राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) के लिए की गई विवादित टिप्पणी के विरोध में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के द्वारा सदन में नारेबाजी की गई। इस दौरान केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी उपस्थित थीं। उन्होंने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मामले में माफी मांगने के लिए कहा गया। इस पर सोनिया गाँधी से उनकी बहस हो गई जो करीब तीन मिनट तक चली।

Also Read-इंग्लैंड : कॉमनवेल्थ गेम्स में असुविधाओं के बीच भारतीय खिलाड़ी, ना खाने को अच्छा खाना और रूम भी करना पड़ रहे शेयर

सोनिया गाँधी ने स्मृति ईरानी से कहा ‘डोन्ट टॉक टू मी’

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी के द्वारा नवनियुक्त राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू के लिए की गई विवादित टिप्पणी के विरोध में सदन में भारतीय जनता पार्टी के सांसदों के द्वारा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के नेतृत्व में अधीर रंजन चौधरी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के खिलाफ नारेबाजी की जा रही थी। इसपर सोनिया गाँधी के द्वारा आपत्ति ली गई और कहा गया की अधीर रंजन चौधरी के द्वारा उक्त टिप्पणी के लिये माफ़ी मांग ली गई थी, फिर भी उनका नाम अधीर रंजन के ब्यान से जोड़ा जा रहा है। इसपर स्मृति ईरानी ने कुछ प्रतिउत्तर दिया तो सोनिया गाँधी ने उन्हें सख्त लहजे में कहा-‘डोन्ट टॉक टू मी’।

Also Read-गुजरात : जहरीली शराब के मामले में एसपी का तबादला और दो डिप्टी एसपी निलंबित

क्या कहा था आखिर अधीर रंजन चौधरी ने

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने एक निजी चैनल पर गैर जिम्मेदाराना टिप्पणी करते हुए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को ‘राष्ट्रपत्नी’ बोल दिया था। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा इस बेहूदा टिप्पणी का सख्त विरोध किया गया। बाद में अधीर रंजन चौधरी के द्वारा जुबान फिसलने की बात कह कर माफ़ी मांग ली गई थी।