मैं राजकुमार सिंह धनोरा (rajkumar singh dhanora) वर्तमान समय में मानसिक रूप से अत्यधिक परेशान हूं। लगातार 30 वर्षों तक भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) में सक्रिय रूप से काम करने के बाद मंत्री गोविंद राजपूत (Govind Rajput) के दबाव में मुझे पार्टी से निष्कासित कराया गया जबकि मैं पार्टी के जिम्मेदार पद पर था।

मंत्री गोविन्द राजपूत की अवैध अनैतिक तरीकों जुटाई जा रही सम्पत्ति, दान में मिल रही जमीनों के मामले उजागर करने पर मुझे भगोड़ा घोषित कर मेरा एनकाउंटर कराने की कोशिश की जा रही है, मैं भारतीय जनता पार्टी के जिम्मेदार पद पर रहा अब मुझ पर इनाम घोषित कराने से पार्टी की बदनामी हो रही है,राजपूत मेरी कभी भी हत्या करा सकते है, मैं कानून और न्याय पर भरोसा करता हूँ न्यायालय पर भरोसा है जहाँ मुझे न्याय मिलेगा।

Read More : नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ को लेकर कही ये बड़ी बात, जानिए क्यों भाजपा कांग्रेस के बीच चल रही जुबानी जंग?

मंत्री राजपूत के दबाव में ग्राम पंचायत के जिस कार्य पर गबन का मामला दर्ज वह पूर्णतः गलत सिद्ध होगा। जिस जनपद प्रभारी सीईओ द्वारा कार्य पूर्ण होने के प्रमाण पत्र दिये और भुगतान कराया उसी के द्वारा एफआईआर दर्ज कराई गई इससे स्पष्ट है कि मंत्री राजपूत का कितना दबाव है। मैं जल्दी ही न्यायालय से न्याय लेकर जनता के बीच जाऊगा और कानूनी तरीकों से अपनी बात जनता के बीच रखूगा।