प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर तंज कसा है. गृहमंत्री ने कमलनाथ को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि कमलनाथ ने बैठक कर करके पूरी कांग्रेस बैठा दी है कि अब वह खड़ी होने लायक बची ही नहीं है. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ कभी जनता के बीच जाते नहीं है, लेकिन चुनाव आते ही जनता के बीच जाना है ये सब याद आने लगता है. ये तय मानकर चलिए कि इनका कुछ नहीं होने वाला है.

राहुल की भारत जोड़ो, तो कामनाथ की अपमान यात्रा

कुछ दिनों पहले भी नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी भारत को जोड़ने के लिए यात्रा निकाल रहे हैं, लेकिन प्रदेश कांग्रेस में आपसी खींचतान का सिलसिला बरकरार है. गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि पीसीसी चीफ कमलनाथ यहां कांग्रेसी नेताओं के आगे हाथ जोड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि निवाड़ में अरुण यादव का कमलनाथ ने अपमान किया और विंध्य में अजय सिंह का अपमान हुआ. ये कैसे हाथ जोड़ रहे हैं समझ ही नहीं आ रहा है. राहुल बाबा भारत जोड़ो यात्रा निकाल रहे हैं और कमलनाथ अपमान यात्रा पर चले जा रहे हैं.

कमलनाथ ने बुलाई है बैठक

मध्य प्रदेश कांग्रेस की आज एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई है. इस बैठक को मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ सम्बोधित करेंगे. इस बैठक में कांग्रेस के सभी प्रकोष्ठों के प्रमुखों और पदाधिकारिओं को आमंत्रित किया गया है. बैठक के दौरान मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी की नई टीम के गठन से लेकर संगठन कार्यप्रणाली की समीक्षा की जानी है. इसके साथ ही साथ बीते वर्षों में विभिन्न प्रकोष्ठ के द्वारा किए गए कामकाज का ब्यौरा भी मांगा जाएगा.

‘मिले कदम-जुड़े वतन यात्रा’ को मिलेगी हरी झंडी

कमलनाथ आज ‘मिले कदम-जुड़े वतन यात्रा’ को हरी झंडी भी दिखाएंगे. इस यात्रा में यात्रा के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता अस्पताल और छात्रावास में भी जाएंगे। यात्रा में देश में बढ़ रही भुखमरी, महंगाई, बेरोजगारी, किसान, मजदूरों जैसे मुद्दों पर लोगों को जागरूक करेंगे। साथ ही यात्रा में पदयात्रा, यात्रा, नुक्कड़ सभा, जनसंपर्क, गांधी चौपाल, हाथ से हाथ जोड़ों अभियान, सभा और ओबीसी, एससी, एसटी, अल्पसंख्यक समाज के प्रतिनिधियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं से संवाद करेंगे।

Also Read : पहलवानों का धरना: एक तरफ संघ के अध्यक्ष और दूसरी तरफ कुश्ती के नामचीन खिलाड़ी, अखाड़ा बना कुश्ती महासंघ