राजस्थान (Rajsthan) के राजसमंद जिले के नाथद्वारा में एक नया कीर्तिमान स्थापित होने जा रहा है। दरअसल राजसमंद जिले के नाथद्वारा में विश्व की सबसे ऊँची शिव प्रतिमा की स्थापना आज की गई है। इस शिव प्रतिमा की ऊंचाई 369 फीट बताई गई है, जोकि हमारे देश ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे ऊँची शिव प्रतिमा मानी जा रही है। जानकारी के अनुसार नाथद्वारा की गणेश टेकरी पर बनी विश्व की सबसे ऊँची यह शिव प्रतिमा 51 बीघा जमीन में स्थापित की गई है।

Also Read-Sarkari Naukri 2022 : इंटेलिजेंस ब्यूरो ने इन पदों पर निकाली 1671 भर्ती, 10 वीं पास अभ्यर्थी ऐसे कर सकते हैं आवेदन

निर्माण में  लगा 10 साल का समय

राजस्थान के राजसमंद जिले के नाथद्वारा में स्थापित की गई विश्व की सबसे ऊँची 369 फीट की शिव प्रतिमा को बनकर तैयार होने और स्थापित होने में करीब दस वर्ष का समय लगा। संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से इस शिव प्रतिमा का निर्माण कराया गया है, जिनके द्वारा इस शिव प्रतिमा का नाम ‘विश्वास स्वरूपम’ रखा गया है । जानकारी के अनुसार इसके निर्माण में 3000 टन स्टील और लोहा, 2.5 लाख क्यूबिक टन कंक्रीट और रेत का प्रयोग हुआ है। ध्यान मुद्रा में बैठे हुए शिव की इस प्रतिमा को 15 से 20 किलो मीटर की दुरी से भी साफ़ तौर पर देखा जा सकता है।

Also Read-IMD Update : इन राज्यों के इतने जिलों में 24 घंटों में शुरू होगी कड़ाके की सर्दी, राजधानी दिल्ली का बिगड़ेगा हवा-पानी

29 अक्टूबर से 6 नवंबर तक लोकार्पण महोत्सव का आयोजन

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस विश्व की सबसे ऊँची शिव प्रतिमा की स्थापना के अवसर पर 29 अक्टूबर से 6 नवंबर तक लोकार्पण महोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस लोकार्पण महोत्सव कार्यक्रम के दौरान विभिन्न तरह से धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। संत कृपा सनातन संस्थान के माध्यम से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस दौरान प्रसिद्ध रामकथा वाचक संत मुरारी बापू की नौ दिवसीय रामकथा का आयोजन भी किया गया है ।