एवियन इंफ्लुएंजा फ्लू (Avian influenza flu) जिसे बर्ड फ्लू (Bird flu) भी कहा जाता है उसके बढ़ते मामले के साथ ही इस बिमारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए केरल सरकार एक्शन में आ चुकी है। मुख्यतः जंगली पक्षियों में पाया जाने वाला यह फ्लू, इन पक्षियों के माध्यम से मानव शरीर में भी प्रविष्ट होकर संक्रमित कर सकता है। केरल राज्य में इस संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए केरल सरकार कई कड़े निर्णय भी ले रही है और साथ ही नागरिकों और ग्रामीणों से सावधान रहने की अपील भी कर रही है।

Also Read-Small Business Ideas: करें ये बिजनेस , Invest होंगे 2 से 3 लाख, 80 प्रतिशत तक Subsidy देगी सरकार, जानिए प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना

20 हजार से अधिक पक्षी मारेगी केरल सरकार

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार केरल के अलाप्पुझा जिले में गुरुवार को इस रोग के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए यहां हरिपद नगरपालिका के वझुथनम वार्ड में 20,000 से ज्यादा पक्षियों को मारने के लिए आदेश दिया गया है। इस आदेश के अनुसार एक अभियान के रूप में 28 अक्टूबर शनिवार से इस बीमारी के केंद्र से 1 किलोमीटर के दायरे में सभी पक्षियों को मारा जाएगा। दरअसल हरिपद में लगभग 1,300 बत्तखों की मौत के बाद संक्रमण के फैलने के बढ़ते खतरे को देखते हुए यह कड़ा निर्णय लिया गया।

Also Read-Elon Musk ने बताया Twitter को अब आजाद पंछी, CEO पराग का मिटाया सुराग, किया टर्मिनेट

7 सदस्यीय एक दल केरल रवाना

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की और से एवियन इंफ्लुएंजा फ्लू अथवा बर्ड फ्लू के संक्रमण के खतरे को देखते हुए अपना 7 सदस्यीय एक दल केरल कल गुरूवार को भेजा है। इस 7 सदस्यीय दल के द्वारा संक्रमण के मुख्य कारणों, संक्रमण की दर और साथ ही संक्रमण के दुष्प्रभाव की जांच संक्रमण क्षेत्र में पहुंच कर की जाएगी।