कॉमनवेल्थ गेम्स ना खेल पाने का है दुःख, ट्वीट करके नीरज चोपड़ा ने बयां किया दर्द

ग्रोइन इंजुरी की वजह से भारत के ओलम्पिक स्वर्ण पदक विजेता चैम्पियन नीरज चोपड़ा इस बार इंग्लैंड के बर्मिंघम में होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेल ( Commonwealth Games) में अपना भाला लहराने से वंचित रह गए हैं। ट्वीट करके नीरज चोपड़ा ने बयां किया दर्द।

ग्रोइन इंजुरी की वजह से भारत के ओलम्पिक स्वर्ण पदक विजेता चैम्पियन नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) इस बार इंग्लैंड के बर्मिंघम में होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेल ( Commonwealth Games) में अपना भाला लहराने से वंचित रह गए हैं। गौरतलब है कि यह इंजुरी नीरज चोपड़ा को वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के दौरान हुई थी। ज्ञातव्य है कि टूर्नामेंट में उनके द्वारा रजत पदक जीता गया था।

Also Read-गुजरात : शराबबंदी के बावजूद पीकर मरने वालों की संख्या हुई 37,अबतक 14 गिरफ्तारियां

ट्विटर पर बयां किया अपना दर्द

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में देश का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकने की वजह से ओलम्पिक स्वर्णपदक विजेता नीरज चोपड़ा को अफ़सोस है। उन्होंने अपने ट्विटर हेंडल से ट्वीट करते हुए अपना ये दर्द बयां किया है। उन्होंने लिखा है कि ‘मुझे आप सभी को बेहद दुख के साथ ये बताना पड़ रहा है कि मैं इस बार राष्ट्रमंडल खेलों में नहीं खेल पाऊंगा. मुझे वर्ल्ड चैम्पियनशिप के चौथे थ्रो के दौरान आए स्ट्रेन की वजह से कुछ तकलीफ महसूस हो रही थी और कल यहां USA (अमेरिका) में इसकी जांच करने पर एक छोटी चोट के बारे में पता चला है. जिसके लिए मुझे कुछ हफ्ते के लिए रिहैबिलिटेशन की सलाह दी गई है। ‘मुझे इस बात का अफसोस है कि मैं बर्मिंघम में पाऊंगा. फिलहाल मेरा पूरा फोकस अपने रिहैबिलिटेशन पर होगा. जिससे मैं जल्द ही फील्ड पर आने की कोशिश करूंगा. देशवासियों से जितना प्यार और सम्मान मिला है, उसके लिए सभी का शुक्रिया करना चाहता हूं।

Also Read-दिल्ली में मंकीपॉक्स के मरीज के सम्पर्क में आने वाले व्यक्ति में भी दिखे लक्षण, सभी राज्यों में अलर्ट

टोक्यो ओलम्पिक में रचा था इतिहास

2021 में जापान के टोक्यो में हुए ओलम्पिक गेम्स में जैवलिन थ्रो (भाला फेंक) की प्रतियोगिता में भारत की ओर से प्रतिनिधित्व करते हुए नीरज चोपड़ा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक पाकर इतिहास रच दिया था। इसके साथ ही भारत की ओर से नीरज चोपड़ा सिंगल पर्सन वाली कैटेगरी में गोल्ड जितने वाले दूसरे एथलीट बने।