Indore: S-ILF ने किया “यूथ समागम” का उद्घाटन, कुष्ठ रोग की पृष्ठभूमि से जुड़ेंगे युवा

इंदौर, 27 फरवरी, 2022: कुष्ठ रोगियों और उनके परिवारों के सामाजिक एवं आर्थिक सशक्तिकरण के लिए समर्पित संगठन, सासाकावा-इंडिया लेप्रोसी फाउंडेशन (S-ILF) ने कुष्ठ रोग की पृष्ठभूमि वाले युवाओं का पूर्व छात्र नेटवर्क बनाने की पहल की। यह मध्य प्रदेश में अपनी तरह का पहला नेटवर्क है। 2012 से, एस-आईएलएफ ने राज्य में कुष्ठ कॉलोनियों के 130 से अधिक युवाओं को उच्च व्यावसायिक शिक्षा हासिल करने में सहयोग दिया है।

ALSO READ: सियागंज व्यापारी एसोसिएशन का छलका दर्द कहा, पुलिस Sampling के नाम पर करती हैं परेशान

इनमें से कई एस-आईएलएफ स्कॉलर्स अब प्रतिष्ठित संगठनों में काम कर रहे हैं और उनका जीवन अब सुव्यव्स्थित है। इन युवाओं में मुख्यधारा के लोगों और कुष्ठ पृष्ठभूमि से अन्य युवाओं को प्रभावित करने की क्षमता है, जिसे देखते हुए, एस-आईएलएफ ने स्कॉलर्स यूथ लीडरशिप काउंसिल बनाने के उद्देश्य से एक नया प्लेटफॉर्म शुरू किया है। 70 से अधिक स्कॉलर्स अपने नेतृत्व कौशल को बेहतर बनाने के लिए दिन भर चलने वाली प्रशिक्षण कार्यशाला में शामिल हुए, जिसका समापन एक सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ हुआ।

इस सांस्कृतिक कार्यक्रम को स्कॉलर्स ने तैयार किया था। कार्यक्रम के लिए भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने सहयोग दिया था, जिसमें स्कॉलर्स को उद्योग के लोगों के साथ बातचीत करने का अवसर मिला। इंदौर के होटल अमर विलास में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद गणमान्य व्यक्तियों में तरुण दास, चेयरमैन, एस-आईएलएफ; कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि सौरभ सिंगला, चेयरमैन-सीआईआई- मध्य प्रदेश और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. डेरेक पैट्सी लोबो, ट्रस्टी एस-आईएलएफ शामिल रहे।

ALSO READ: Indore: इंडेक्स अस्पताल में कोक्लियर इम्प्लांट सर्जरी शुरू, बच्चों को मिलेगी बहरेपन से निजात

यूथ लीडरशिप काउंसिल एक विविधापूर्ण, युवाओं द्वारा संचालित समूह है जो नेतृत्व को बनाए रखने, परिवर्तन को बढ़ावा देने तथा स्थानीय, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर कुष्ठ रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए सक्रिय है। इसका उद्देश्य समाज में कुष्ठ रोग को एक कलंक की तरह देखने की जो मानसिकता बनी हुई है, उसे समाप्त करना है तथा कुष्ठ रोग से प्रभावित लोगों और उनके परिवारों के बीच अपनी नेटवर्किंग के जरिये समान सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक अवसर सुनिश्चित करना है। एस-आईएलएफ अन्य राज्यों में पूर्व छात्रों के नेटवर्क की स्थापना करने के लिए अपना समर्थन देना जारी रखेगा।

सासाकावा-इंडिया लेप्रोसी फाउंडेशन (एस-आईएलएफ) के बारे में
नवंबर 2006 में स्थापित, सासाकावा-इंडिया लेप्रोसी फाउंडेशन (एस-आईएलएफ) सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण के माध्यम से कुष्ठ रोगियों और उनके परिवारों को मुख्यधारा में लाने के लिए काम करता है, इस प्रकार कुष्ठ रोग के कलंक से संघर्ष करता है और लोगों के सम्मान की बहाली करता है। हमारे मुख्य काय्रक्षेत्र निम्नलिखित हैं:
• सूक्ष्म उद्यमों की स्थापना के लिए तकनीकी और वित्तीय सहायता प्रदान करना ताकि स्वरोजगार
उपलब्ध कराया जा सके
• रोजगार के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण और उच्च शिक्षा के अवसरों तक पहुंच बनाना
• सरकारी कल्याणकारी योजनाओं तक कुष्ठ रोगियों की पहुंच बनाने के लिए उनका सशक्तीकरण करना
• समाज के सभी वर्गों में कुष्ठ रोग के बारे में जागरूकता फैलाना
• कुष्ठ रोगियों के अधिकारों के लिए, और उनका समावेशीकरण करने के लिए राय बनाने वालों और नीति निर्माताओं के साथ मिलकर काम करना

कुष्ठ रोग के बारे में: कुष्ठ रोग एक बैक्टीरिया-जनित रोग है, जिसका संपूर्ण इलाज सरकार द्वारा मुफ्त में दिए जा रहे उपचार के जरिये संभव है। कुष्ठ रोग को लेकर प्रभावित व्यक्तियों के प्रति कलंक की मानसिकता रखना और उनसे भेदभाव करना बिल्कुल उचित नहीं है।