एमपी क्रिकेट एसोसिएशन (MPCA) कार्यालय पर आज आईएमसी (IMC) ने संपत्ति कर बकाया के लिए उस वक्त छापा मारा जब कार्यालय में कोई मौजूद नहीं था। इस छापेमारी की कार्यवाही को लेकर एमपी क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिलाष खांडेकर ने IMC उच्चायुक्त लता अग्रवाल पर कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा की लता अग्रवाल ने निष्कासन गिरोह का नेतृत्व किया और हमारे कार्यालय पर छापा मार दिया और निचले अधिकारियों को धमकाने के लिए एमपीसीए के लेखा अनुभाग में बैठ गईं ।

Also Read-उत्तराखंड : Uttarkashi में भारी बर्फबारी के बीच दरारों में फंसे पर्वतारोही, CM पुष्कर सिंह धामी ने सेना से मांगी मदद

करना पड़ा 32 लाख का भुगतान

एमपी क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिलाष खांडेकर ने कहा कि हमारे पास 31 मार्च ’23 तक भुगतान करने का समय है, फिर भी इंदौर शहर की छवि को बचाने के लिए आज हमें लगभग ₹32 लाख का भुगतान करना पड़ा, जबकि इस खबर के फैलने से MPCA की बदनामी शुरू हो गई है। उन्होंने आगे कहा कि IMC उच्चायुक्त लता अग्रवाल ने पहले के मैचों के मनोरंजन कर की मांग की जो एमपीसीए द्वारा आयोजित ही नहीं किए गए थे।

Also Read-Railway Recruitment 2022 : भारतीय रेल्वे में 6000 से अधिक पदों पर भर्ती, शुरू हो चुके हैं Online आवेदन, जल्दी करें

दी गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी

एमपी क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिलाष खांडेकर ने आरोप लगाए कि MC उच्चायुक्त लता अग्रवाल कई अधिकारियों के साथ मेरे केबिन में आई और मुझे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी। वह बार-बार दोहराती रही कि आईएमसी कॉमरेड सुश्री पाल ने उसे हमारे पास भेजा है। इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाए की यह कार्यवाही कल इंदौर में होने वाले T 20 मैच के पास IMC के युवा अधिकारीयों को ना दे पाने की वजह से हुई है, जबकि मैंने अपनी परंपरा और शिष्टाचार के अनुसार खुद सुश्री पाल को 25 पास पहले ही भेज दिए थे। इस असहनीय घटना से मैं तत्काल महापौर श्री पी भार्गव और संभागायुक्त डाॅ शर्मा को अवगत कराना चाहता हूँ।