जानकारी के अनुसार नेहरु पर्वतारोहण संस्थान का एक प्रशिक्षण दल द्रोपदी का डांडा में हुई भारी बर्फबारी की वजह से फंस गया है। सूत्रों के अनुसार 29 प्रशिक्षणार्थी ग्‍लेशियर के बीच में बड़ी दरार में फंस हुए हैं। इस गंभीर परिस्थिति से बचाव के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) ने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से बात करके सेना से मदद की गुहार लगाई है।

Also Read-Railway Recruitment 2022 : भारतीय रेल्वे में 6000 से अधिक पदों पर भर्ती, शुरू हो चुके हैं Online आवेदन, जल्दी करें

शुरू हुआ रेस्क्यू

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस घटना की जानकारी लगने के तत्काल बाद से ही सेना के सुरक्षादल सक्रिय होकर बचाव कार्य में जुट गए हैं, हालांकि भारी बर्फबारी की वजह से और इलाके में दूर दूर तक बर्फ जमा होने की वजह से ऑपरेशन में मुश्किलें आ रही हैं, परन्तु भारतीय सेना के सुरक्षादल इन परिस्थितियों से निपटने में सक्षम हैं और शीघ्र ही यथासम्भव रेस्क्यू को अंजाम दिया जा रहा है।

Also Read-Firaq Gorakhpuri Shayari : ‘आने वाली नस्लें तुमसे रश्क़ करेंगी हमअसरों, जब ये ख़याल आएगा उनको के तुमने फ़िराक़ को देखा है’, मीर और ग़ालिब के बाद सबसे बड़े शायर

कुछ के हताहत होने की भी आशंका

भारी बर्फ बारी की वजह से उत्तरकाशी के द्रोपदी का डांडा में हुए इस हादसे में कुछ प्रशिक्षु पर्वतारोहियों के हताहत होने की संभावना भी जताई जा रही है। 29 लोगों का दल जहां फंसा है वह ग्लेशियर की दरार का हिस्सा है, बड़ी मात्रा में एकाएक हुई बर्फबारी की वजह से उक्त पर्वतारोहियों को दरार से निकलने का मौका नहीं, जिसकी वजह से आशंका है कि कुछ लोग इस घटना में दिवंगत भी हो सकते हैं। फिलहाल सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन पुरे जोश के साथ जारी है।