नई दिल्ली। देश के नामचीन पहलवान भारतीय कुश्ती संघ के खिलाफ दिल्ली में धरने पर बैठे है। संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह (Brij Bhushan Sharan Singh) और कई कोच के खिलाफ यौन शोषण के आरोप लगे है। प्रदर्शन कर रहे पहलवानों की आंखों में आंसू थे, तो चेहरे पर नाराजगी। इन रेसलर्स के पास महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न, अभद्रता, क्षेत्रवाद जैसे गंभीर आरोपों की लंबी लिस्ट है। इन पहलवानों ने कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ मोर्चा खोला है।

इंडियन ओलंपिक असोसिएशन ने पहलवानों के विरोध के चलते शुक्रवार शाम 5.30 बजे अर्जेंट मीटिंग बुलाई है. इससे पहले आईओए की अध्यक्ष पीटी उषा ने गुरुवार को कहा था कि वह देश के टॉप पहलवानों के इस मुद्दे पर बेहद चिंतित और परेशान हैं.

शाम 6 बजे खेल मंत्री और खिलाड़ियों की बैठक. भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ अब कई खिलाड़ियों ने मोर्चा खोल दिया है. इनमें वह खिलाड़ी भी हैं, जो गोंडा के नंदिनी नगर स्थित कुश्ती स्टेडियम में नेशनल चैंपियनशिप खेलने गए हैं. हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के कई खिलाड़ी बिना मैच खेले ही वापस लौट रहे हैं.

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात के बाद पहलवान बजरंग पूनिया ने कहा कि अनुराग ठाकुर ने आश्वासन दिया है कि हमारे साथ न्याय होगा. प्रदर्शन कर रहे पहलवानों ने भारतीय ओलंपिक संघ को पत्र लिखा है और ब्रज भूषण शरण को हटाने समेत चार मुख्य मांगें रखी हैं. पहलवानों की तरफ से विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक, रवि दहिया और दीपक पूनिया ने भारतीय ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी ऊषा को पत्र लिख खिलाड़ियों के यौन उत्पीड़न और शोषण का मुद्दा उठाया है. ओलंपिक संघ के सामने पहलवानों ने चार मांगें रखीं.

हम देश के लिए लड़ रहे है, तो हम अपने हक पर भी लड़ सकते हैं. कोई भी पार्टी का आदमी हमें सपोर्ट नहीं कर रहा है. हमारी एक ही मांग है कि फेडरेशन को भंग किया जाए. जरूरत पड़ी तो हम कानून के हिसाब से भी चलेंगे. जितना जल्दी होगा, हम यहां से चलें जाएंगे. बजरंग पुनिया ने कहा हमने अपनी मांगे सरकार को बता दी हैं, उन्होंने आश्वासन दिया है. जैसे ही हमारी मांगे पूरी हो जाएंगी हम उठकर चले जाएंगी. हमारी इसमें कोई राजनीति नहीं है. ना ही हम किसी राजनेता को यहां बुलाना चाहते हैं. हमारी हाथ जोड़ कर प्रार्थना है कि वो मंच पर ना आएं.

ओलंपिक में देश को बॉक्सिंग में पदक दिलाने के बाद कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़ने वाले विजेंदर सिंह ने पहलवानों का साथ दिया है। उन्होंने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है। उनका कहना है कि बृजभूषण सिंह पर लगे आरोपों की गहराई से जांच होनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि जब भी खेल मंत्रालय के अधिकारी पहलवानों से बात करते हैं तो उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग की जानी चाहिए।

कुश्ती महासंघ यौन उत्पीड़न के आरोपों पर दोपहर तीन बजे तक खेल मंत्रालय को जवाब भेजेगा। उधर, WFI के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि मैं आज एक राष्ट्रीय बैठक में भाग लेने जा रहा हूं। मैं शाम को मीडिया से बात करूंगा और अपनी बात रखूंगा।

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा है कि अगर वह मुंह खोल देंगे तो सुनामी आ जाएगी। बृजभूषण इस्तीफा नहीं देने की बात पर अड़े हुए हैं। उन्होंने शाम तक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की बात भी कही है। उनका यह भी कहना है कि प्रेस कॉन्फ्रेंस में वह पहलवानों के प्रदर्शन के पीछे राजनीतिक साजिश का पर्दाफाश करेंगे।

बृजभूषण शरण सिंह ने कहा, “अपनी सारी बाते शाम को रखूंगा. मैं किसी की दया पर नहीं बैठा हूं. जिस महिला ने मुझ पर आरोप लगाया था वो टूर्नामेंट में थी ही नहीं. सिर्फ 3% लोग ही नाराज हैं.” उन्होंने कहा, “मैं इस्तीफा नहीं दूंगा. और न ही मैं विदेश भाग रहा हूं.”

कांग्रेस ने कुश्ती महासंघ में जारी विवाद के बीच ट्वीट कर कहा, “विनेश फोगाट की इस तस्वीर को पीएम नरेंद्र तक पहुंचा दीजिए. इन सवालों के साथ- सब कुछ जानते हुए PM मोदी खामोश क्यों रहे? हमारी बेटियों का शोषण होता रहा और वो चुप्पी साधे रहे. क्यों.”

बॉक्सर विजेंदर सिंह भी पहलवानों के धरने में शामिल हुए हैं। उन्होंने कहा कि वो पहलवानों से मिलने आए हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा- सरकार अपनों को बचाने में लगी हुई है। जानकारी के मुताबिक, खेल मंत्रालय ने पहलवानों को आरोपों की जांच और मांगों पर विचार के लिए कमेटी बनाने का सुझाव दिया है। इस पर पहलवान राजी नहीं हैं। कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय बदल दिया है। पहले यह प्रेस कॉन्फ्रेंस दोपहर 12 बजे होनी थी, लेकिन अब समय बदलकर शाम 4 बजे कर दिया गया है। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर आज फिर पहलवानों से मुलाकात करेंगे।

महिला पहलवानों के यौन शोषण के आरोपों को लेकर अपने पद से इस्तीफा देने के दबाव में भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। उन्होंने कहा है कि वे शुक्रवार एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनके खिलाफ हुई राजनीतिक साजिश का पर्दाफाश करेंगे।

आरोपों का सामना कर रहे बीजेपी सांसद और भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने खिलाड़ियों द्वारा लगाए गए आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि उनपर जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं वह ‘राजनीतिक साजिश’ का हिस्सा है। उन्होंने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि ‘यह मेरे खिलाफ एक राजनीतिक साजिश है।

Also Read – चार महीने से सिर्फ़ टी-शर्ट में चल रहे राहुल गांधी ने पहन लिया जैकेट, देखें वीडियो

पहलवानों ने गुरुवार को अनुराग ठाकुर से मुलाकात की और उनके साथ डिनर किया था। पहलवानों और खेल मंत्री के बीच ये बैठक 10 बजे से करीब पौने दो बजे तक चली। उधर, बृजभूषण शरण सिंह के इस्तीफे पर सस्पेंस बना हुआ है। जानकारी के मुताबिक, कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को फोन कर 24 घंटे के अंदर इस्तीफा देने का आदेश सुनाया दिया गया है।

बुधवार के दिन भारत के 30 पहलवान दिल्ली के जंतर-मंतर में धरने पर बैठ गए। इनमें बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट और साक्षी मलिक जैसे बड़े नाम भी शामिल थे। पहलवानों ने कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह पर कई गंभीर आरोप लगाए। पहलवानों ने उनको हटाने की मांग की। पहलवानों ने यह भी कहा कि बृजभूषण मनमाने तरीके से कुश्ती संघ को चला रहे हैं। कई प्रतियोगिताओं में पहलवानों के साथ कोच नहीं भेजे जाते और विरोध करने पर धमकाया जाता है। विनेश फोगाट ने कहा कि बृजभूषण ने कई लड़कियों का शोषण किया है।