पिनल पाटीदार

NDTV के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने बुधवार को अपने पत्रकार के पद से इस्तीफ़ा दे दिया। रवीश कुमार NDTV के लोकप्रिय पत्रकारों में शुमार हैं। पत्रकारिता के जगत में दिए इनके योगदान के लिए रवीश कुमार को साल 2019 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से नवाजे जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त उन्हें दो बार रामनाथ गोयनका उत्क्रुष्टता पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। हिंदी पत्रकारिता के सबसे लोकप्रिय पत्रकार रवीश कुमार ने अपने पत्रकारिता के दौरान में कई प्रोग्राम होस्ट किए, जिसमे हम लोग, रवीश की रिपोर्ट, देश की बात और प्राइम टाइम भी शामिल हैं।

वैसे रवीश कुमार के शुरूआती करियर की बात कि जाएं तो उन्होंने शुरुआती पढ़ाई लोयोला हाई स्कूल, पटना से की। इसके बाद अपनी उच्च शिक्षा को प्राप्त करने के लिए इनको दिल्ली जाना पड़ा जहां पर रवीश कुमार ने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त की और इसके बाद भारतीय जन संचार संस्थान से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर का डिप्लोमा प्राप्त किया। इसके अलावा जब रवीश कुमार M.Phil कर रहे थे तब इनकी मुलाकात नैना दास गुप्ता से हुई।

बता दें इसी दौरान वह एक दूसरे को पसंद करने लगे और लगभग सात साल तक डेट करने के बाद इन दोनों ने शादी कर ली। अब इन दोनों के पास दो बेटियां है और नैना दास गुप्ता दिल्ली के लेडी श्री राम कॉलेज में इतिहास की अध्यापिका है। एक इंटरव्यू के दौरान रवीश कुमार ने कहा था कि मेरी पत्नी नैना दास गुप्ता मेरी प्रेरणा है। इसके बाद उन्होंने अपना करियर पत्रकारिता के क्षेत्र में बनाया और इन दिनों वह हिन्दी पत्रकारिता के बहेद लोकप्रिय पत्रकार में शुमार है।

बता दें इस दौरान उन्होंने कई प्रोग्राम होस्ट किए, जिनमें हम लोग, रवीश की रिपोर्ट, देश की बात और प्राइम टाइम शामिल हैं। पत्रकारिता जगत में अपने योगदान के लिए रवीश कुमार साल 2019 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किए जा चुके हैं। इसके अलावा उन्हें दो बार रामनाथ गोयनका उत्कृष्टता पुरस्कार से भी नवाज़ा गया। रवीश कुमार ने पत्रकारिता के क्षेत्र में बड़े ही निष्ठा और ईमानदारी से काम किया है। रवीश ने सामाजिक मुद्दों पर सवाल उठाना और लगातार गरीब और बेसहारा लोगों के जीवन को ऊंचा उठाने में लगे रहना।

यह सब इतना आसान नहीं है, लेकिन रवीश कुमार ने इस बात की परवाह न करते हुए आगे बढ़ते रहे है। हालांकि रवीश कुमार बिल्कुल लोकल अंदाज में रिपोर्टिंग करते है जिसके कारण लोग इनसे बहुत जल्द ही कनेक्ट हो जाते है। बता दें रवीश कुमार एनडीटीवी इंडिया के सबसे चर्चित चेहरों में से एक थे। अपनी रिपोर्ट्स में वह बेरोज़गारी, शिक्षा और सांप्रदायिकता जैसे मुद्दे उठाते रहे हैं। समाचार पत्र ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ ने वर्ष 2016 में उन्हें ‘100 सबसे प्रभावशाली भारतीयों’ की अपनी लिस्ट में भी शामिल किया था।