उन्नाव। उत्तर प्रदेश के उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में खेत से दो नाबालिग लड़कियों का संदिग्ध हालत में शव मिलने के बाद से ही हड़कंप मच गया। दरअसल, यहां तीन नाबालिक चारा लेने के लिए खेत में गई थी। लड़कियों के चाचा को किसी ने सूचना दी कि तीनों लड़कियां खेत में पड़ी हैं। जिसके बाद तीनों को तत्काल अस्पताल ले जाया गया, जहां दो को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। वहीं अब इस मामले में शुरुआती पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आ गई है।

मिली जानकारी के अनुसार पोस्टमार्टम में ज़हरीला पदार्थ मिलने की पुष्टि हुई है। अभी यह कहना मुश्किल है कि आख़िर यह ज़हरीला पदार्थ किस प्रकार का है? पीएम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस उन्नाव मामले में ज़हर के बारे में विस्‍तृत जानकारी हासिल करने में जुटी है। पोस्‍टमॉर्टम करने वाले डॉक्‍टरों का पैनल शरीर से मिले ज़हरीले पदार्थ के सैंपल को जांच के लिए लैब भेजेंगे। वहीं डॉक्टरों ने कहा कि, अभी यह कहना मुश्किल है कि आख़िर यह किस तरह का ज़हरीला पदार्थ है? लेकिन, लड़कियों की मौत इसी ज़हरीले पदार्थ का वजह से हुई है। पुलिस कप्तान ने एफएसएल टीम को बुलाया है, जो घटनास्थल का रिक्रिएशन कर जांच को आगे बढ़ाएगी।

साथ ही कानपुर के रिजेंसी हॉस्पिटल के जन सम्पर्क अधिकारी परमजीत अरोड़ा ने कहा कि, उन्नाव से आई पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक है। उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। आपको बता दे कि, इस मामले में डॉ रश्मि कपूर के साथ 6 डॉक्टरों का पैनल पीड़िता का इलाज कर रहे है। साथ ही पीआईसी और एनआईएस की टीम लगातार निगरानी कर रही है। पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। उन्होंने कहा कि शरीर पर उसके कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। अभी तक सस्पेक्टेड प्वाइजनिंग का मामला लग रहा है।