Ukraine Crisis: यूक्रेन ने रूस पर लगाया गोलीबारी का आरोप, बढ़ रही टेंशन

नई दिल्ली। यूक्रेन (Ukraine) को लेकर यूरोप में तलाव लगातार बढ़ता जा रहा है जिसका असर कई देशों पर भी पड़ रहा है। विवाद को और आग की गति देते हुए यूक्रेन (Ukraine) ने रूस (Russia) पर गोलीबारी के आरोप लगाए है। देश ने पूर्वी यूक्रेन में रूसी समर्थित बलों पर लुहान्स्क के एक गांव में गोली की बरसात करने का आरोप लगाया है। यह दावा करते हुए यूक्रेन (Ukraine) ने कहा कि गोला दागकर किंडरगार्टन को निशाना बनाया गया है। कहा गया कि, आज यानी गुरुवार को रूस समर्थित विद्रोहियों ने पूर्वी यूक्रेन में युद्धविराम रेखा के पार गोलीबारी की है।

ALSO READ: Shakti Pumps ने लॉन्च किया 4-इंच प्लग एंड प्ले सबमर्सिबल पंप

उन्होंने कहा कि गोलीबारी ऐसे समय में की गई, जब पश्चिमी देशों ने किसी भी दिन रूसी आक्रमण की संभावना की चेतावनी दी थी। वहीं दूसरी ओर अभी तक इस गोलीबारी की पुष्टि नहीं हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक, यूक्रेन (Ukraine) की ओर से युद्ध की संभावना पर चिंता जताते हुए कहा कि 1 लाख से अधिक रूसी सैनिक (Russian army) यूक्रेन की सीमा के पास तैनात हैं। वहीं दूसरी ओर, मॉस्को ने इस बात से साफ इनकार किया है। उन्होंने कहा कि वह हमले की योजना बना रहा है। साथ ही कहा गया कि इस हफ्ते वह कुछ सैनिकों को वापस बुला रहे है।

आपको बता दें कि, अलगाववादियों ने कहा कि सरकारी बलों ने बीते 24 घंटों में चार बार गोलीबारी की है। लेकिन यूक्रेन ने विद्रोहियों पर गोले दागने का आरोप जड़ा है। साथ ही यूक्रेन ने कहा कि विद्रोहियों ने किंडरगार्टन पर हमला किया है। उन्होंने कहा कि, यूक्रेन के विद्रोहियों के कब्जे वाले लुहान्स्क क्षेत्र के कादिवका शहर में एक रॉयटर्स फोटोग्राफर ने लाइन ऑफ कॉन्टैक्ट की ओर गोलीबारी की आवाज सुनी है। लेकिन वे तुरंत घटना की डिटेल तुरंत नहीं बता पा रहे थे।

ALSO READ: फसल बीमा: वादे से मुकरी शिवराज सरकार! किसानों को 7 हजार की जगह मिले 400 रुपये

दो विद्रोही क्षेत्रों में से एक स्व-घोषित लुहांस्क पीपुल्स रिपब्लिक ने कहा कि यूक्रेनी बलों ने गुरुवार को चार अलग-अलग घटनाओं में मोर्टार, ग्रेनेड लांचर और एक मशीन गन का इस्तेमाल किया था। वहीं दूसरी ओर अलगाववादियों ने एक बयान जारी किया। जिसमे उन्होंने कहा कि, “यूक्रेन के सशस्त्र बलों ने भारी हथियारों का इस्तेमाल करते हुए युद्धविराम का गंभीर उल्लंघन किया है, जिसे मिन्स्क समझौते के अनुसार वापस ले लिया जाना चाहिए।”