उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से एक रूह कांपने वाली घटना सामने आई है। एक महिला के साथ 5 लोगों ने दो दिन तक दुष्कर्म करते रहे। उसके बाद पीड़िता के गुप्तांग में रॉड डाल दी है। यह वैसी ही घटना है जैसे निर्भया के साथ घटी थी। लेकिन पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि पीड़िता के प्राइवेट पार्ट से ऐसी कोई चीज नही मिली है, लेकिन दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने ट्वीट करके इस बात की पुष्टी की है। फिलहास घटना की शिकार महिला का अस्पताल में उपचार चल रहा है और उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

जिस्म को बुरी तरह नोंचा

मिली जानकारी के अनुसार, 37 साल की महिला के जिस्म को 5 लोगों ने बारी-बारी से दरिंदगी करके बुरी तरह से नोच डाला है। इतना ही नही दुष्कर्म करने के बाद प्राइवेट पार्ट में रॉड डाल दी। यह मामला बीती 16 अक्टूबर की रात है, जब पीड़िता अपने भाई का बर्थडे सेलिब्रेट करके वापस करीब 9 बजे अपने घर दिल्ली के नंदनगरी जा रही थी। गाजियाबाद से घर के जाने के लिए आश्रम रोड के ऑटो स्टैण्ड पहुंची वहा पर 4 लोग गाडी से आए और पीड़िता को जबदस्ती गाड़ी में बैठा लिया। इसके बाद उसे एक अनजान स्थान पर ले गए और 17 की शाम तक उसके साथ एक के बाद एक दुष्कर्म करते रहें।

घटना होने से पहले की शॉपिंग

पीड़िता के भाई ने बताया कि 16 अक्टूबर की रात को वो अपनी बहन को छोड़ने के लिए आश्रम रोड जा रहा था। उससे पहले उन दोनों ने नंदग्राम मार्केट में शॉपिंग की कुछ राशन खरीदा था। जिसका सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस को मिल गया है। इसके बाद पीड़िता का भाई 9 और साढ़े 9 बजे के बीच अपनी बहन को आश्रम रोड के ऑटो स्टैण्ड पर छोड़कर चला गया। उसका कहना है कि उसने ड्रिंक ली थी, इसलिए वो अपनी बहन को छोड़ने दिल्ली नहीं गया।

Also Read : BCCI सचिव जय शाह के बयान के बाद बौखलाया ‘पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड’, बताया नियमों का उलंघन

ये बोला ऑटो वाले ने

भाई के मुताबिक उसकी बहन वहां खड़े एक ऑटो में बैठ गई थी, लेकिन ऑटोवाले ने कहा कि जब तक उसका ऑटो पूरा नहीं भर जाता वो नहीं जाएगा। पीड़िता उस ऑटो से उतर कर बाहर खड़ी हो गई और दूसरे ऑटो का इंताजर करने लगी। तभी वहां एक स्कॉर्पियो कार आई, जिसमें 4 लड़के सवार थे, उन्होंने पीड़िता को गाड़ी में बैठाया और किसी अज्ञात स्थान पर ले गए, जहां पहले से एक ओर लड़का मौजूद था। इल्जाम है कि उन पांचों लोगों ने वहां उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया। ये सिलसिला अगले दिन तक देर रात तक चलता रहा।

भांजे ने किया मामा को फोन

पीड़िता के भाई ने बताया कि उसी दिन यानी 16 अक्टूबर की रात करीब 11 बजे उसके पास उसके भांजे का फोन आया। उसने बताया कि अभी तक मम्मी घर नहीं पहुंची हैं। यह बात सुनकर उसे अपनी बहन की चिंता होने लगी। उसने अपने आस-पास वाले रिश्तेदारों को फोन कॉल किए और बहन के बारे में पूछा मगर वो कहीं नहीं मिली। इसके बाद वो अपने कुछ पड़ोसियों को साथ लेकर पुलिस थाने पहुंचा।

वहीं, थाना नंदग्राम पुलिस को एक तहरीर देकर उसने अपनी बहन के इस तरह गायब हो जाने की बात बताई। पुलिस ने उसे बताया कि इस तरह के मामलों में 24 घंटे का वक्त बीत जाने के बाद ही मुकदमा दर्ज किया जाता है। लिहाजा अभी थोड़ा इंतजार करना होगा. इसके बाद एफआईआर लिखी जाएगी।

भाई पहुंता अस्पताल

17 अक्टूबर को महिला का परिवार उसे तलाश करता रहा, लेकिन उसका कुछ अता-पता नहीं चला। इस तरह से पूरा दिन बीत गया। 18 अक्टूबर की अल सुबह करीब 3 बजे महिला के भाई के पास पुलिस का फोन आया। पुलिस ने कहा कि वो फौरन एमएम अस्पताल आ जाए। भाई को कुछ बुरा होने के अंदेशा होने लगा। वो तेजी से अपनी पत्नी को साथ लेकर अस्पताल जा पहुंचा। जहां अपनी बहन का हाल देख उसके होश फाख्ता हो गए।

वहां के डॉक्टरों ने महिला की गंभीर हालत को देखते हुए उसे दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में रेफर कर दिया। वहां डॉक्टरों ने महिला का इलाज शुरू किया। पीड़िता के भाई ने बताया कि पीड़िता के प्राइवेट पार्ट से एक रॉड जैसी वस्तु मिली है।

जीटीबी अस्पताल में चल रहा है इलाज

जीटीबी अस्पताल में दाखिल पीड़ित महिला की हालत थोड़ी संभली तो उसने पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि वो दिल्ली के नंद नगरी इलाके की रहने वाली है। वो एक दिन पहले गाजियाबाद में अपने भाई के यहां जन्मदिन मनाने आई थी, जब भाई ने उसको वापस जाने के लिए ऑटो स्टैण्ड पर छोड़ा, तब उसको वहां से कुछ लोग ले गए, जिन्हें वो पहले से जानती थी। वो लोग उसे किसी अनजान जगह ले गए और उसके साथ सभी ने बलात्कार किया।

Also Read : Jaun Elia Shayri : जो गुज़ारी न जा सकी हम से, हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है – जॉन एलिया, शायरों का शायर

4 आरोपी पुलिस की हिरासत में एक फरार

पुलिस को छानबीन में पता चला कि पीड़ित महिला का आरोपियों के साथ किसी संपत्ति को लेकर कुछ विवाद चल रहा है। इसी के चलते इस संगीन वारदात को अंजाम दिया गया। हालांकि पुलिस महिला के प्राइवेट पार्ट में रॉड डाले जाने की बात से इनकार कर रही है। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। जिसमें 5 लोगों को नामजद किया गया हैं, जिनमें दीनू, शाहरुख, जावेद, धोला और औरंगजेब शामिल हैं। इनमे से चार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. एक आरोपी फरार है. पुलिस फिलहाल हर एंगल से इस मामले की जांच कर रही है।

उधर, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इस मामले को लेकर एक ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने कहा, ‘दिल्ली की लड़की गाजियाबाद से रात में वापस आ रही थी, जब उसे जबरन गाड़ी में उठा ले गए, महिला के साथ 5 लोगों ने 2 दिन तक बलात्कार किया और उसके गुप्तांगों में रॉड घुसाई, सड़क किनारे बोरी में मिली, तब भी रॉड उसके अंदर थी। अस्पताल में ज़िंदगी के लिए लड़ रही है, SSP गाजियाबाद को नोटिस जारी किया है।

स्वाति मालीवाल के इन आरोपों पर गाजियाबाद पुलिस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। महिला के प्राइवेट पार्ट में रॉड डालने और बोरे में बंद करने की बात से पुलिस ने इनकार किया है। पुलिस का कहना है कि टंग क्लीनर मिला है और नंदग्राम थाने मे मामला दर्ज किया है, आरोपियों को हिरासत में लेकर पूरी जांच की जा रही है।