भोपाल। खंडवा जिला योजना समिति, जन प्रतिनिधियों और जिले के अधिकारियों ने मेडिकल कॉलेज का नाम स्व नंदकुमार सिंह चौहान के नाम पर करने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही खंडवा की जनता एवं दादाजी भक्तों की श्रद्धा और आस्था के केन्द्र आध्यात्मिक सिद्दी चिकित्सा विशेषज्ञ श्री दादाजी धुनिवाले शासकीय चिकित्सालय जिला खंडवा के नाम रखने के लिये एक महिने पहले पत्र सौपे गए है। बता दें कि, यह शुभ कार्य गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर करने की मांग हो रही है जिसके चलते 1 जुलाई को प्रभारी मंत्री के नाम के पत्र खंडवा के जिलाधीश महोदय को सौपें जा चुके है।

लेकिन शासकीय व्यस्तताओं की वजह से जिला अस्पताल का नाम गुरु पूर्णिमा पर श्री दादाजी धुनिवाले के नाम पर करने की नहीं हो पाई। जिसके चलते अब 27 जुलाई को फिर से प्रभारी मंत्री के नाम से उक्त मांग को रक्षा बंधन यानी 22 अगस्त पर करने की मांग के लिये पत्र सौंपे गए है। लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स से पता चला है कि, जिला अस्पताल के भवन पर श्री दादाजी धुनिवाले के नाम के साथ भेदभाव हो रहा है और स्व नंदकुमार सिंह के नाम की पट्टीका लगा दी गई है। साथ ही जनता को भटकने के लिये समाचार पत्र की खबरों में लिखा गया है कि जिला अस्पताल के नये भवन का नाम श्री दादाजी धुनिवाले के नाम पर किया जा रहा है।

इसके साथ ही पूर्व ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष लव जोशी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से मांग की है कि खंडवा की जनता एवं दादाजी भक्तों की श्रद्धा एवं आस्था के केन्द्र दादाजी धुनिवाले के नाम पर हो। पर इसके साथ भेदभाव की प्रक्रिया को तत्काल रोक लगाकर सम्पूर्ण नये भवन सहित जिला अस्पताल का नाम आध्यात्मिक सिद्दी चिकित्सा विशेषज्ञ श्री दादाजी धुनिवाले जी के नाम पर ही। इससे जनता की गंभीर बिमारियों का ईलाज एवं चिकित्सा धुनिमाई की पावन विभूति माँ नर्मदा के पावन जल एवं स्पर्श चिकित्सा से करने के अनेकों अनुभव एवं संस्मरण आज भी अनुभूति करते है। साफ़ साफ़ यह कहना है कि, दादाजी के नाम पर हो रहे भेदभाव पर रोक लगे।