इंदौर। मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस पर एक से 7 नवंबर तक होने वाले कार्यक्रमों को ‘मध्यप्रदेश उत्सव’ के रूप में आयोजित किये जायेंगे। सात दिन चलने वाली गतिविधियाँ जन-उत्सव के रूप में आनंद और अधिक से अधिक जन-भागीदारी के साथ होंगे। कलेक्टर मनीष सिंह ने इंदौर जिले में मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के प्रभावी कार्यक्रमों के आयोजनों के लिये संबंधित विभागों के अधिकारियों को जवाबदारी सौपी है।

स्थापना दिवस एक नवंबर को प्रदेश की सभी शासकीय और निजी शिक्षण संस्थाओं में ससम्मान मध्यप्रदेश गान होगा। प्रभात फेरियों सहित अन्य कार्यक्रम भी आयोजित किये जायेंगे। सभी शासकीय भवनों पर रोशनी की जाएगी। 2 नवम्बर को लाड़ली लक्ष्मी सम्मेलन होगा। इंदौर में लाड़ली लक्ष्मी योजना का मुख्य कार्यक्रम रवीन्द्र नाट्य ग्रह में दोपहर ढाई बजे होगा। तीन नवम्बर को स्वच्छता पर केन्द्रित गतिविधियों में ऐतिहासिक स्थलों, महापुरूषों की प्रतिमाओं की साफ-सफाई होगी तथा प्रमुख स्थानों पर 67 दीप भी प्रज्ज्वलित किए जाएंगे।

स्वच्छता में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को सम्मानित भी किया जायेगा। 3 से 6 नवम्बर तक खेल प्रतियोगिताएँ होंगी। ग्राम पंचायत तथा विकासखंड स्तर पर कबड्डी, कुश्ती, खो-खो, रस्साकशी, वॉलीबॉल तथा फुटबाल की प्रतियोगिताएँ होंगी। बच्चों, युवाओं, महिलाओं और वृद्धों के लिए भी अन्य गतिविधियाँ करने के निर्देश दिये गये हैं।

बताया गया कि 4 नवम्बर को रोजगार दिवस और ‘एक जिला-एक उत्पाद’ पर आधारित कार्यक्रम किए जाएंगे। पाँच नवम्बर को मध्यप्रदेश के गौरव पर केन्द्रित गतिविधियाँ होंगी। इसमें सभी शिक्षण संस्थाओं में नाटक, लोकनृत्य और जन नायकों पर केन्द्रित नाट्य प्रस्तुति और देश भक्ति के गीतों पर प्रतियोगिताएँ की जाएंगी।

Also Read: Weather Update: मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, चक्रवात हवाए दिखाएँगी असर, इन जिलों में अभी भी बरस सकते है बादल

इसी क्रम में 6 नवम्बर को वन्य-प्राणी सुरक्षा, ऊर्जा-संरक्षण एवं साक्षरता और पर्यावरण-संरक्षण से संबंधित गतिविधियाँ होंगी। इसमें स्कूली बच्चों के लिए चित्रकला प्रतियोगिता, दौड़ और क्विज का आयोजन भी किया जाएगा। वन्य-जीव और वनों की सुरक्षा पर गतिविधियाँ करने के निर्देश दिए गये है। सात नवम्बर को सप्ताह भर हुई प्रतियोगिताओं के पुरस्कार वितरित किए जाएंगे। सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित करने के निर्देश दिये गये है।