उज्जैन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 11 अक्टूबर को श्री महाकाल मंदिर उज्जैन में भगवान श्री महाकाल के दर्शन किए और भगवान श्री महाकाल की मंत्रोचार के साथ पूजा अर्चना कर भगवान श्री महाकाल की आरती की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा महाकाल मंदिर में पूजन अर्चन का सीधा प्रसारण एलईडी पर सभा स्थल पर भी किया गया जहां उपस्थित विशाल जनसमुदाय द्वारा एलईडी पर भगवान महाकाल के दर्शन कर हर हर महादेव का जयघोष किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज उज्जैन में ‘श्री महाकाल लोक’ के लोकार्पण से पूर्व श्री महाकालेश्वर मन्दिर में पूजा-अर्चना की। विधि-विधान से पूजन पं.घनश्याम शर्मा ने करवाया। प्रधानमंत्री मोदी सायं 6 बजे श्री महाकालेश्वर मन्दिर पहुँचे। सफेद धोती, अंग वस्त्र, केसरिया दुपट्टा, माथे पर त्रिपुण्ड और गले में रूद्राक्ष की माला धारण किये हुए प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे भक्तिभाव से भगवान श्री महाकाल का पूजन एवं आरती की। उन्होंने भगवान श्री महाकालेश्वर का जप व ध्यान भी किया।

 

 

जय महाकाल और हर हर महादेव से शुरू किया सम्बोधन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया उपस्थित थे। जय महाकाल’ के साथ उज्जैन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना संबोधन शुरू किया। उन्होंने कहा कि उज्जैन की ये ऊर्जा, ये उत्साह, अवंतिका की ये आभा, ये अद्भुतता, ये आनंद, महाकाल की ये महिमा, ये महात्म्या, ‘महाकाल लोक’ में लौकिक कुछ भी नहीं है। जब देश का भौगोलिक स्वरूप आज से अलग रहा होगा तब से ये माना जाता है कि उज्जैन भारत के केंद्र में हैं।

Also Read: Rajasthan में दिल दहला देने वाला हादसा, मिट्टी का टीला ढहने से 3 बच्चियों सहित 6 की मौत

पीएम मोदी बोले कि अतीत में हमने देखा है कि प्रयास हुए कि सत्ता बदले। भारत का शोषण हुआ। उज्जैन की ऊर्जा को भी नष्ट करने के प्रयास हुए। हमारे ऋषियों ने भी कहा कि महाकाल शिव की शरण में मृत्यु भी हमारा क्या कर लेगा। फिर पुनर्जीवित हुआ। फिर उठ खड़ा हुआ।