मलमास या खरमास (Kharmas) के बाद 17 जनवरी 2023 से 14 मार्च 2023 तक विवाह के कुल 28 शुभ मुहूर्त रहेंगे. जिसके बाद अब 15 मार्च 2023 को सूर्य मीन राशि में चले जाएंगे तो फिर से खरमास लग जाएगा. इसलिए बेहतर होगा कि आप जनवरी से मार्च के बीच निश्चित तिथियों के मुताबिक, शादी-ब्याह से जुड़े काम पुरे कर ले। ग्रहों के राजा सूर्य देव16 दिसंबर 2022 को धनु राशि में गोचर कर चुके हैं. सूर्य के धनु राशि में जाते ही खरमास लग गया है. खरमास में शुभ और मांगलिक कार्य निषेध माने होते हैं. इसमें शादी-ब्याह, सगाई, मुंडन, गृह प्रवेश या गृह निर्माण जैसे शुभ कामों से बचना चाहिए. ज्योतिषियों कि ऐसी राय है कि 14 जनवरी 2023 को जब सूर्य मकर राशि में गोचर करेंगे तो शादी-ब्याह जैसे मंगल कार्यों की शुरुआत हो जाएगी.

जनवरी से मार्च तक मांगलिक कार्यों के शुभ मुहर्त

जनवरी 2023

17 जनवरी (मंगलवार)
18 जनवरी (बुधवार)
19 जनवरी (गुरुवार)
25 जनवरी (बुधवार)
26 जनवरी (गुरुवार)
27 जनवरी (शुक्रवार)
30 जनवरी (सोमवार)
31 जनवरी (मंगलवार)

फरवरी 2023

1 फरवरी (बुधवार)
6 फरवरी (सोमवार)
7 फरवरी (मंगलवार)
8 फरवरी (बुधवार)
9 फरवरी (गुरुवार)
10 फरवरी (शुक्रवार)
13 फरवरी (सोमवार)
15 फरवरी (बुधवार)
22 फरवरी (बुधवार)
23 फरवरी (गुरुवार)
27 फरवरी (सोमवार)
28 फरवरी (मंगलावर)

मार्च 2023

1 मार्च (बुधवार)
5 मार्च (रविवार)
6 मार्च (सोमवार)
7 मार्च (मंगलवार)
8 मार्च (बुधवार)
9 मार्च (गुरुवार)
11 मार्च (शुक्रवार)
14 मार्च (मंगलवार)

Also Read – TV एक्टर पर लगा यौन उत्पीड़न का आरोप, ब्लैकमेल कर वसूले लाखों रूपए

खरमास में आखिर क्यों शादी- ब्याह नहीं किए जाते

खरमास या मलमास में शादी-ब्याह जैसे शुभ और मांगलिक कार्यों को करने की मनाही होती है. हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक, खरमास में विवाह करने से पति-पत्नी का वैवाहिक जीवन में उथल पुथल मच जाती हैं. इसलिए इसमें शादी-ब्याह जैसे मांगलिक कार्य न करने की सलाह दी जाती है. इस साल खरमास 16 दिसंबर से लगने वाला है और 14 जनवरी 2023 को जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेंगे, तब शादी-ब्याह के शुभ मुहूर्त खुल जाएंगे और फिर आप मंगल कार्य कर सकते हैं.

खरमास में ये गलती बिल्कुल भी ना करें

खरमास के महीने में कोई नई वस्तु या चीज घर नहीं लाना चाहिए, जमीन या वाहन आदि की खरीदीं नहीं करनी चाहिए. ऐसा करने से मनुष्य इन वस्तुओं का सुख नहीं भोग पाता है. इस महीने मांस-मदिरा, गेहूं, चावल, सफेद धान, मूंग, जौ, तिल, कटहल, जीरा, आंवला, सुपारी सेंधा नमक भी नहीं खाना चाहिए.