धन की देवी माता लक्ष्मी की आराधना से न केवल धन बल्कि नाम और यश की भी प्राप्ति होती है. इनकी आराधना से वैवाहिक जीवन में मिठास आती है. इनकी सही विधि और नियम से आराधना की जाए तो मां धन लक्ष्मी खाली भंडार भी अन्न, धन से संपन्न कर देती हैं. कुछ शुभ चीजें भी मां लक्ष्मी को अपनी ओर सम्मोहित करती हैं. इन शुभ चीजों को अगर आप नए साल के अवसर पर अपने घर ले आएं तो ये बहुत ही शुभ फलदायी होगा. आइए आज हम आपको उन पांच चीजों के बारे में बताते हैं जिन्हें घर में रखने से मां लक्ष्मी का आगमन होता है।

शंख

शंख मुख्य रूप से एक समुद्री जीव का ढांचा होता है. हिन्दू पौराणिक हिन्दू मान्यता के अनुसार शंख जन्म समुद्र से माना जाता है. कहीं-कहीं पर शंख को लक्ष्मी जी का भाई भी मानते हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि जहां शंख होता है वहां लक्ष्मी जी अवश्य होती हैं. शुभ मंगल कार्यों के मोके पर और धार्मिक त्योहारों में इसको बजाना शुभ माना जाता है.

शंख अनेकों प्रकार के होते हैं पर मुख्य रूप से बाईं ओर खुलने वाले (वामावर्ती) शंख चलन में दिखते हैं. मध्यावर्ती शंख और दक्षिणावर्ती शंख मुश्किल से उपलब्ध होते हैं और जिनका इस्तेमाल खास शुभफलदायक और लाभप्रद माना जाता है. पूजा के स्थल पर श्वेत रंग का शंख रखने और उपयोग करने से मा लक्ष्मी जी की विशेष कृपा बनी रहती हैं. आप भी अपने पूजाघर में शंख को जरूर स्थापित करें.

Also Read – Optical Illusion: बूझो तो जानें! दी गई तस्वीर में ऊन के गोलों के बीच खो गई है बॉल, आपको नज़र आई

गुलाब की महक

गुलाब की खुशबू और गुलाब का फूल दोनों ही मां लक्ष्मी को अतिप्रिय हैं. रोजाना से माता लक्ष्मी को गंध या गुलाब अर्पित करने से व्यवसाय अच्छा होता है. गुलाब की पंखुड़ियों से मां लक्ष्मी का अभिषेक करने से ऋण दूर होते हैं. हर शुक्रवार को मां लक्ष्मी को गुलाब की माला चढ़ाने से दरिद्रता का नाश होता है.

स्फटिक की माला

स्फटिक का संबंध शुक्र ग्रह से है और वैभव का प्रतीक है. मां लक्ष्मी के मंत्रो का जप स्फटिक की माला से ही करना चाहिए. मां लक्ष्मी को स्फटिक की माला भेंट करें. स्फटिक की माला पहनने से मां लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है.

श्री हरि विष्णु

साथ ही ऐसा भी कहा जाता हैं की मां लक्ष्मी की कृपा श्रीहरि के बिना कभी नहीं मिल सकती .घर के पूजा घर में भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की मूर्ति रखें. नियमित विधिवत इनकी आराधना करें. पूरे परिवार को धन लाभ होगा और आपसी स्नेह बना रहेगा. भगवान विष्णु की आराधना के लिए आप ग्यारस का उपवास भी रख सकते हैं.

घी का दीपक

मां महालक्ष्मी की पूजा के वक़्त घी का दीपक अवश्य जलाना चाहिए. यह दीपक चार मुखी हो तो बहुत ही उत्तम होता हैं. इसे श्वेत धातु या मिटटी के दीपक में जलाएं. शाम के वक़्त पूजा स्थल पर घी का दीपक प्रज्वलित करने से धन की फिज़ूल बर्बादी नहीं होती.