कर्नाटक : बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट कल सुनाएगा फैसला

0
10
suprim court

नई दिल्ली : कर्नाटक में जारी सियासी नाटक सुप्रीम कोर्ट तक पंहुच गया है। जिसके चलते इस मामले में मंगलवार को बागी विधायकों की अर्जी पर सुनवाई की गई। जिसमें कोर्ट ने बुधवार को सुबह 10ः30 बजे फैसला सुनाने की बात कही है। इा दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने बाकी विधायकों के वकील मुकुल रोहतगी से विधायकों के इस्तीफे और उनको अयोग्य ठहराए जाने की भी तारिख पूछी।

जिसके बाद रोहतागी ने कहा कि ‘अगर व्यक्ति विधायक नहीं रहना चाहता है, तो कोई उन्हें फोर्स नहीं कर सकता है। विधायकों ने इस्तीफा देने का फैसला किया और वापस जनता के बीच जाने की ठानी है। अयोग्य करार दिया जाना इस इच्छा के खिलाफ होगा।’ उन्होने कहा कि अगर जिन विधायकों ने याचिका दायर की है, अगर उनकी मांग पूरी कर ली जाती है तो कर्नाटक सरकार गिर जाएगी। इसके बाद कोर्ट ने रोहतगी से अयोग्य करार दिए जाने के नियमों के बारे में पूछा।

जिस पर सीजेआई ने कहा, ‘हम ये तय नहीं करेंगे कि विधानसभा स्पीकर को क्या करना चाहिए, यानी उन्हें इस्तीफा स्वीकार करना चाहिए या नहीं। हालांकि, हम सिर्फ ये देख सकते हैं कि क्या संवैधानिक रूप से स्पीकर पहले किस मुद्दे पर निर्णय कर सकता है।’ उन्होने कहा, स्पीकर को क्या करना है ये कोर्ट तय नहीं कर सकता है।

वहीं स्पीकर के आर रमेश कुमार की ओर से अभिषेक मनु सिंझावी ने पैरवी की। चीफ जस्टिस ने उनसे पूछा कि विधायकों के इस्तीफा दिए जाने पर स्पीकर ने क्यों कुछ नहीं किया, क्यों वो लगातार कहते रहे कि वह तुरंत फैसला नहीं कर सकते हैं। जिस पर मनु सिंघवी ने दलील दी कि आप बंदिशे हटा दीजिए हमारे द्वारा कल तक इस्तीफे और अयोग्यता पर फैसला ले लिया जाएगा।

गौरतलब है कि कांग्रेस-जेडीएस सरकार के 15 विधायकों ने अपने इस्तीफे पर फैसले के चलते सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। इनका आरोप है कि स्पीकर बिना किसी वजह के उनके इस्तीफे को मंजूर नहीं कर रहे हैं और देरी कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here