कमल हासन और डीएमके ने हिंदी लागू करने के प्रस्ताव पर जताया विरोध

0
13
kamal-hassan

केन्द्र की ओर से जारी तमिलनाडु के स्कूलों में तीन भाषा प्रणाली के प्रस्ताव का डीएमके और मक्कल नीधि मैयम ने विरोध जताया है। डीमके के राज्यसभा सांसद तिरुचि सिवा और मक्कल नीधि मैयम नेता कमल हासन ने इसका विरोध किया है।

बता दे कि सिवा ने केंद्र सरकार को इस प्रस्ताव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की चेतावनी दी है। साथ ही उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार हिंदी को तमिलनाडु में लागू करने का प्रयास कर आग से खेलने का काम कर रही है।

सिवा ने कहा कि अगर हिंदी भाषा को तमिलनाडु पर थोपा जाता है तो इसे यहां के लोगों द्वारा बर्दाश्त नहीं किया जाएगाा। हम तमिलनाडु के लोगों पर जबरन थोपे जाने को रोकने के लिए किसी भी फैसले का सामना करने के लिए तैयार हैं।

तिरुचि एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत के दौरान सिवा ने हिंदी को तमिलनाडु में थोपा जाना सल्फर गोदाम में आग फेंकने जैसा बताया है। उन्होने कहा कि यदि फिर से हिंदी सीखने पर जोर दिया जाता है तो यहां के छात्र और युवा द्वारा इसे रोक दिया जाएगा। उन्होने 1965 में हुए हिंदी विरोधी आंदोलन का भी उदाहरण दिया है।

वहीं, कमल हासन का इस मामले में कहना है कि मैंने भी कई हिंदी फिल्मों में काम किया है। मेरे हिसाब सें हिंदी भाषा को किसी पर नहीं थोपना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here