नई दिल्ली। कोरोना महामारी के चलते केंद्रीय सरकार ने सभी स्कूल, कॉलेज समेत कई अन्य परीक्षाओं पर रोक लगा दी थी। जिसके चलते अब जेईई परीक्षा के लिए ऑड-ईवन फॉर्मूला तय किया गया है। इस फॉर्मूले के चलते परीक्षा केंद्रों में परीक्षार्थियों को दो हिस्सों में कंप्यूटर आवंटित किए जाएंगे। जेईई और नीट की परीक्षा के चलते परीक्षा केंद्र के हर कक्ष में 12 छात्र सकेंगे। वही बुधवार को नीट परीक्षा के एडमिट कार्ड जारी कर दिए गए है। बता दे कि बहुत कम घंटों में ही साढ़े पांच लाख से अधिक छात्रों ने ऑनलाइन एडमिट कार्ड डाउनलोड किए।

वही नेशनल एजेंसी (NTA) के महानिदेशक विनीत जोशी ने बताया कि, “जेईई परीक्षा कंप्यूटर पर होती है। यहां दो कंप्यूटर के बीच 1 मीटर की दूरी है, लेकिन इसके बाद भी हमने ऑड-ईवन की व्यवस्था की है। दो शिफ्ट में परीक्षा होगी। सुबह की शिफ्ट में ऑड नंबर वाले छात्र और शाम की शिफ्ट में ईवन नंबर वाले छात्र कंप्यूटर पर बैठकर परीक्षा देंगे।”

उन्होंने कहा कि , ” परीक्षा से पहले और परीक्षा के बाद केंद्र को सैनिटाइज किया जाएगा। केंद्र के फर्श, दीवारों, फर्नीचर, लिफ्ट, सीढ़ियां और रैम सभी को पूरी तरह से सैनिटाइज करने की व्यवस्था की गई है।” महानिदेशक विनीत जोशी ने बताया कि,”जेईई परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या भी 570 से बढ़ाकर 660 कर दी गई है। वहीं नीट के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या 2546 से बढ़ाकर 3843 की गई है।”

बता दे कि 1 से 6 सितम्बर के बीच जेईई (मेन) की परीक्षा होंगी। वही 13 सितम्बर को नीट की परीक्षा होगी। 27 सितम्बर को जेईई एडवांस की परीक्षा होगी। हालांकि पहले 18 जुलाई से 23 जुलाई के बीच जेईई की परीक्षा होनी थी और नीट की परीक्षा 26 जुलाई को होनी थी। जोकि कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से टाल दी गयी थी।