विश्व नंबर 8भारत के लक्ष्य सेन क्वार्टर फाइनल में विश्व नंबर 24 जापान के कोदाई नाराओका से 17-21,12-21से46मिनट में हारे,यह लक्ष्य की कोदाई से चौथे मुकाबले में तीसरी हार है, पिछले मुकाबले में लक्ष्य सेन ने कोदाई को युवा ओलंपिक 2018में 14-21,21-15,24-22से हराया था, यह पहला मौका है जब इन दोनों खिलाड़ियों के बीच आपस में तीन-तीन गेम नहीं हुए, लक्ष्य ने हमवतन विश्व नंबर 13 एच एस प्रणोय को 21-9,21-18 से 39 मिनट में हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई, दोनों के बीच पांचवें मुकाबले में लक्ष्य की तीसरी जीत हैं, सभी मुकाबले इसी साल हुए हैं, पिछले दोनों मुकाबले में लक्ष्य ,प्रणोय से हार गए थे, विश्व बैडमिंटन स्पर्धा में 25अगस्त को प्रणोय ने नवें क्रम के लक्ष्य को 17-21, 21-16, 21-17 से हराया था , पहले दौर में लक्ष्य सेन ने छठवें क्रम के इंडोनेशिया के एंथोनी सिनुसुका जिंटिग को 21-16,21-12से और प्रणोय ने चीन के झाओ जुन पेंग को21-13,22-20 से हराया लक्ष्य की एंथोनी जिंटिग पर तीसरे मुकाबले में तीसरी जीत हैं, तीनों मुकाबले इसी साल हुए हैं, प्रणोय ने विश्व नंबर 19 झाओ जुन को तीसरे मुकाबले में पहली बार हराया, इसी साल हुए पहले दोनों मैच प्रणोय हारे, पिछला मुकाबला विश्व बैडमिंटन स्पर्धा 2022के क्वार्टर फाइनल में हुआ जिसमें झाओ 19-21, 21-6, 21-18से जीते थे, विश्व नंबर 11भारत के किदांबी श्रीकांत, सातवें क्रम के सिंगापुर के लोह कैन येव से दूसरे दौर में 13-21,15-21से हार गए, श्रीकांत की यह तीसरे मुकाबले में लगातार दूसरी हार हैं, श्रीकांत ने पहले दौर में हांगकांग के नग का लोंग अंगुस को 17-21, 21-14, 21-12 से हराया, श्रीकांत की नग पर सातवें मुकाबले में चौथी और लगातार दूसरी जीत हैं।

 लगातार 39 मैच जीतने के बाद विक्टर की पराजय

पूर्व विश्व विजेता लोह कैन येव ने क्वार्टर फाइनल में विश्व नंबर एक डेनमार्क के विक्टर एक्सेलसेन को21-17,21-10 से हराकर उलटफेर किया, इस पराजय से ओलंपिक विजेता विक्टर की लगातार 39मैच की जीत के सिलसिले को भी लोह ने रोक दिया, लोह विक्टर एक्सेलसेन को हराकर बहुत खुश हैं, वे पहली बार किसी सुपर-750स्पर्धा के सेमीफाइनल में जगह बनाने में सफल हुए हैं, विश्व नंबर 5 लोह को सेमीफाइनल में चौथे क्रम के मलेशिया के ली जी जिआ ने 18-21,15-21से हराया, 24वर्षीय ली जी पहली बार सुपर-750 स्पर्धा के फाइनल में हैं, चीन के 26वर्षीय शी युकी का भी 2019 मकाऊ खुली स्पर्धा के बाद यह पहला फाइनल है, वे 10माह स्पर्धाओं से दूर रहने के बाद इस साल की विश्व स्पर्धा में खेले थे और प्रि क्वार्टर फाइनल में इंडोनेशिया के एंथोनी सिनुसुका जिंटिग से हारे थे, शी युकी ने क्वार्टर फाइनल में पांचवें क्रम के ताईपेई के चोयु तैन चैन को 25-23, 21-12से और ली जी ने इंडोनेशिया के जोनाटन क्रिस्टी को 21-16, 18-21, 21-18से हराया।

 लगातार सातवीं हार

विश्व नंबर 8 सात्विक साईंराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने विश्व नंबर 26 दक्षिण कोरिया के कांग मिन हयुक और सेओ स़ेयुंग जाई को 21-15,21-19 से एवं विश्व नंबर 14 इंडोनेशिया के मुहम्मद शोहिबुल फिकरी और बगास मेनुलाना को 21-14,21-16 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई , सातवें क्रम की भारतीय जोड़ी, विश्व नंबर चार मलेशिया के आरोन चिआ और सोह वूई यिक से लगातार सातवीं बार हार गए, चौथे क्रम के आरोन चिआ और सोह वूई यिक, सात्विक और चिराग से 21-16,21-19से क्वार्टर फाइनल में जीते, मलेशियाई जोड़ी से इसी साल यह चौथी हार हैं, पिछली बार विश्व बैडमिंटन स्पर्धा के सेमीफाइनल में 27अगस्त 2022को हारे थे, आरोन चिआ और सोह को सेमीफाइनल में दूसरे क्रम के इंडोनेशिया के मार्कुस फरनाल्डी जिदेओन और केविन संजया सुकमुल्यो ने 17-21,21-13,17-21से हराया, यह जोड़ी क्वार्टर फाइनल में हमवतन इंडोनेशिया के लेओ रोली कार्नान्डो और डेनियल मार्थिन से 15-21, 22-20, 22-20से जीती थी, फाइनल इंडोनेशियाई जोड़ी के बीच ही हैं, पांचवें क्रम के फजर अल्फैन और मुहम्मद रिआन अरदिआन्तो ने सेमीफाइनल में मलेशिया के ओंग येव सिन और तेओ इई यि को 21-16,22-20 से हराया, विश्व नंबर तीन इंडोनेशिया के मोहम्मद एहसान और हेंड्रा सेतियवान एवं विश्व नंबर एक जापान के तकुरो होकि और युगो कोबायाशी पहले दौर में ही हार गए।

महिला एकल और मिश्रित युगल फाइनल चीन के खिलाड़ियों के बीच हैं, एकल सेमीफाइनल में तीसरे क्रम की चेन युफेई ने पांचवें क्रम की थाईलैंड की रत्चनोक इन्तेनान को 15-21,21-10,21-15से और आठवें क्रम की ही बिंग्जिआओ ने हमवतन हान युई को21-14,21-12 से हराया, ही बिंग्जिआओ ने क्वार्टर फाइनल में पहले क्रम की जापान की अकाने यामागुची को 14-21 ,21-19 ,21-11से हराकर उलटफेर किया।

 तीन साल बाद जीती

रत्चनोक इन्तेनान ने दूसरे क्रम की ताईपेई की ताई त्झी यिंग को 10-21,22-20,21-16से क्वार्टर फाइनल में हराकर उलटफेर किया,रह रत्चनोक की ताई पर लगातार छह पराजय के बाद पहली और 33वें मुकाबले में 15वीं जीत हैं, इससे पहले रत्चनोक ने ताई को आखिरी बार कोरिया खुली स्पर्धा के सेमीफाइनल में 28सितम्बर 2019 को 21-19,21-11से हराया था।

चीन की 27वर्षीय हुआंग डोंग पिंग लगातार दूसरी बार इस स्पर्धा के मिश्रित युगल फाइनल में हैं, पिछले साल वे वांग यि लियु के साथ तो इस बार फेंग यान दे के साथ फाइनल में हैं, वे गत वर्ष झेंग यु के साथ महिला युगल फाइनल भी खेली थी, हुआंग डोंग पिंग ने वांग यि लियु के साथ ओलंपिक स्वर्ण पदक हासिल किया है।

 दूसरे दौर में 

मिश्रित युगल में भारत के ईशान भटनागर और तनिषा क्रास्टो दूसरे दौर में दूसरा क्रम प्राप्त जापान के युता वातनाबे और अरिसा हिगशिनो से 16-21,10-21 से हारे, महिला युगल में भी विश्व नंबर 31ट्रेसा जोली और गायत्री गोपीचंद, छठवें क्रम की थाईलैंड की जोंगकोल्फान और रविंडा प्राजोन्गजई से 21-23,13-21से दूसरे दौर में पराजित हुई, महिला एकल में भारत की एकमात्र चुनौती विश्व नंबर 32 साइना नेहवाल, विश्व नंबर 30 चीन की झांग यि मान से 17-21 ,21-19,11-21से48मिनट में पहले दौर में हार गई, इससे पहले साइना, झांग से 2016में मकाऊ खुली स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में भी 12-21,17-21से हारकर उलटफेर का शिकार हुई थी।

 भारत को 13वां स्थान, कोरिया को खिताब

विश्व जूनियर मिश्रित टीम बैडमिंटन स्पर्धा में भारत 13वें स्थान पर रहा, दक्षिण कोरिया ने फाइनल में ताईपेई को 3-1से हराकर तीसरी बार यह खिताब जीता, सेमीफाइनल में ताईपेई ने गत विजेता इंडोनेशिया को3-2से हराकर पहली बार फाइनल में जगह बनाई, इंडोनेशिया ने क्वार्टर फाइनल में 13बार की विजेता चीन को 3-1से हराया, चीन इस स्पर्धा में दूसरी बार सेमीफाइनल नहीं खेल सका,2019में भी इंडोनेशिया ने ही चीन को क्वार्टर फाइनल में हराया था, कोरिया ने सेमीफाइनल में जापान को 3-0 से हराया, स्पेन के सन्तान्देर में 17 से 22अक्टूबर तक हुई इस स्पर्धा में 9वें से 16वें स्थान के मुकाबले में भारत , मलेशिया से 1-3 से हारकर 13वें से 16वें स्थान के लिए खेला, मलेशिया विरुद्ध भारत से एकमात्र जीत अनुपमा उपाध्याय ने दिलाई, फिर भारत ने जर्मनी को 3-0से और हांगकांग को 3-0से पराजित किया ,भारत समूह लीग में आस्ट्रेलिया से 2-3से जीत सका और चीन से 0-5से हार गया,भारत ने स्लोवेनिया और आइसलैंड को 5-0से हराया,38 देशों की टीमें खेली।

 अनुपमा उपाध्याय को पहला क्रम

24से 30 अक्टूबर तक विश्व जूनियर बैडमिंटन स्पर्धा के व्यक्तिगत मुकाबले हैं ,भारत की अनुपमा उपाध्याय को बालिका एकल में पहला क्रम और उन्नति हूडा को पांचवां क्रम मिला हैं, बालक एकल में संकर मुथुसामी सुब्रमण्यमन को चौथा क्रम है।