अगर आपकी कुंडली में है मांगलिक दोष तो शादी से पहले करे ये काम, वैवाहिक जीवन होगा आसान

ज्योतिष शास्त्र में मंगल दोष को दूर करने के कई कारण होते हैं। अगर जातक की कुंडली में मंगल दोष है तो व्यक्ति के विवाह और वैवाहिक जीवन में कई तरह की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके लिए आप ये उपाय कर सकते हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वैवाहिक जीवन के लिए व्यक्ति का मांगलिक दोष से मुक्त होना बहुत जरूरी होता है। कई बार ज्योतिष शास्त्र में ऐसे कई दोष का उल्लेख है जिसके चलते व्यवहारिक जीवन में उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं और यह सब दोष की वजह से भी होता है। ऐसे में जीवन साथी के साथ अच्छी समझ होने पर भी कई बार शादियां टूट जाती है और लड़ाई झगड़े अपने आप जगह बनाने लगते हैं। ऐसे में जातक की कुंडली में दोष हो सकते हैं जो कि ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाने का कारण बन जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में पहले चौथे व सातवें स्थान पर मंगल का होना मांगलिक दोष उत्पन्न कर देता है। इस दोष के कारण व्यक्ति के जीवन और वैवाहिक जीवन में संघर्ष और गलतफहमी तो पैदा होती ही है। इसके साथ अन्य कई परेशानियां भी जगह बनाने लग जाती है। जिसके चलते कई तरह की परेशानियां उत्पन्न हो जाती हैं और शादी एक अलग ही पड़ाव पर आकर खड़ी हो जाती है। जहां से ना पीछे पलट कर देखा जा सकता है और ना ही आगे बढ़ा जा सकता है। आज हम आपको मंगल दोष को लेकर जरूरी जानकारी देने वाले हैं।

शादी से पहले करें यह काम

शादियों में मंगल दोष को अच्छा नहीं माना जाता है और इसे खतरनाक दोषों में गिना जाता है। लेकिन यह उपाय समय से पहले नहीं किए जाए तो विवाह में देरी और अशांति के साथ ही तलाक का भी कारण बन जाते हैं। मांगलिक दोष से पीड़ित लोगों के जीवन में तनाव, दुख, समस्या पैदा करते हैं। अगर इसके समय से पहचान नहीं की जाए तो यह बाद में ज्योतिषीय उपाय नहीं किए जा सकते। ऐसे में अपने शादीशुदा जीवन को बचाने के लिए ज्योतिषीय उपाय करना बहुत ही जरूरी हो जाते हैं।

Must Read- ज्योतिष शास्त्र : शनिग्रह 6 माह तक रहेंगे कुम्भ राशि में, जानिए किन राशियों को होगा लाभ

करे ये कारगर उपाय

मांगलिक दोष से मुक्त होने के लिए ज्योतिष शास्त्र में मंगल चंडिका का नियमित पाठ किया जाता हैं और नियमित रूप से दुर्गा की मूर्ति से पहले कुंभ विवाह जो कि एक पवित्र बंधन के साथ विवाह कराया जाता है। विष्णु विवाह इसमें ही भगवान विष्णु के साथ विवाह किया जाता है एवं अश्वथा विवाह इसमें पीपल के साथ विवाह किया जाता हैं। इतना ही नहीं हर मंगलवार या फिर नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ भी करने की सलाह दी जाती हैं।

हालांकि कि हमारे द्वारा बताई गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारी पर आधारित है। लेकिन कुंडली में यदि मंगल दोष है या फिर शादी करने का सोच रहे हैं, तो आप सबसे पहले ज्योतिष या पंडित से सलाह जरूर ले लें। क्योंकि कई बाहर जातक की राशि और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कई अन्य तरह से भी जातक की कुंडली को देखकर विवाह करने की सलाह दी जाती है। इसीलिए आप पहले अपनी कुंडली का मिलान करवाकर मंगल दोष को दूर करने का उपाय जान सकते है।