Breaking News

साध्वी प्रज्ञा के बयान पर करकरे की बेटी ने तोड़ी चुप्पी, यूं दिया जवाब

Posted on: 28 Apr 2019 14:41 by Surbhi Bhawsar
साध्वी प्रज्ञा के बयान पर करकरे की बेटी ने तोड़ी चुप्पी, यूं दिया जवाब

मध्यप्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने 26/11 हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया था। इस बयान को देने के बाद से ही साध्वी विवादों में घिरी हुई है।साध्वी के इस बयान पर शहीद हेमंत करकरे की बेटी ने चुप्पी तोड़ी है।

हेमंत करकरे की बेटी जुई नवारे ने कहा, ‘मैं उनके बयान को तवज्जो नहीं देना चाहती। मेरे पिता ने हमें सिखाया है कि आंतकवाद का कोई धर्म नहीं होता, कोई भी धर्म किसी को मारना नहीं सिखाता है, वह इस विचारधारा को हराना चाहते थे। अपने जीवन में उन्होंने हर किसी की मदद की। मरते वक्त भी वह अपने शहर और देश को बचाने में लगे थे। वह अपनी वर्दी को बहुत प्यार करते थे, वह अपनी जान से ज्यादा अपनी ड्यूटी को निभाने पर विश्वास रखते थे, मैं चाहती हूं कि लोग उन्हें इसी तरह से याद रखें।

प्रज्ञा ने दिया था ये बयान

प्रज्ञा ठाकुर ने बीते दिनों हेमंत करकरे पर विवादित टिप्पणी करते हुए कहा था कि करकरे की मौत उनके श्राप देने के कारण हुई थी। क्योंकि करकरे ने राजनैतिक इशारे पर उन्हें कई वर्षों तक शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया था।

मोदी से माफ़ी की मांग

प्रज्ञा ठाकुर के इस बयान के बाद कांग्रेस हमलावार हो गई है और प्रधानमंत्री मेदी से माफी की मांग करते हुए प्रज्ञा के विरूद्ध निर्णायक कार्रवाई करने की भी मांग की है।पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला कहा कि ‘आखिरकार यह साबित हो ही गया कि पाकिस्तानी आतंकी अजमल कसाब के दोस्त भाजपाई निकले। भाजपा ने शहीद हेमंत करकरे को देशद्रोही घोषित करने का नाकाबिले माफी जुर्म किया है।’

साथ ही उन्होंने कहा कि ‘जिन्होंने आतंकवादियों से लड़ते-लड़ते अपने जीवन की कुर्बानी दी डाली और आज उन्हें ही प्रज्ञा ठाकुर ने देशद्रोही घोषित कर डाला। भाजपा की ओर से इस शहीद का तिरस्कार करने की हद तब हो गई जब करकरे के पूरे वंश के नाश की बात की गई।’ उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि ‘क्या भाजपा अशोक चक्र विजेता करकरे के पूरे परिवार का सफाया करना चाहती है?’

भोपाल से भाजपा उम्मीदवार

गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भाजपा ने भोपाल से उम्मीदवार बनाया है। प्रज्ञा कांग्रेस के दिग्विजय सिंह को यहां से चुनौती दे रही हैं। प्रज्ञा ठाकुर को अक्टूबर 2008 में मुंबई में मालेगांव धमाके के आरोप में एटीएस ने गिरफ्तार किया था, उस वक्त एटीएस के चीफ हेमंत करकरे थे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com