Guru Pushya Nakshatra : शुभ मुहूर्त में बिका 150 करोड़ का सोना-चांदी, 500 करोड़ से ज्यादा का रहा कारोबार

Guru Pushya Nakshatra : दीवाली (Diwali) के पहले गुरु पुष्य के शुभ योग में शहर के बाजारों की दीवाली से पहले ही दीवाली मनवा दी। उम्मीद से बेहतर रहा है कल का बाजार रहा है।

Guru Pushya Nakshatra : दीवाली के पहले गुरु पुष्य के शुभ योग में शहर के बाजारों की दीवाली से पहले ही दीवाली मनवा दी। बताया जा रहा है कि उम्मीद से बेहतर रहा है कल का बाजार रहा है। कल शुभ मुहूर्त शुरू होते ही बाजारों में काफी रौनक देखने को मिली है। इस दौरान गुरु पुष्य के शुभ योग में सोना-चांदी खरीदी पर जोर रहा है। जानकारी के मुताबिक, शहर में सोने-चांदी और गहनों की कुल बिक्री 125 से 150 करोड़ के बीच आंकी जा रही है। ऐसे में 60 से 70 करोड़ की बिक्री इलैक्ट्रानिक बाजार रहा है। वहीं प्रापर्टी, फर्निचर और आटोमोबाइल की बिक्री को मिला कर कारोबार 500 करोड़ तक पहुंच गया है।

जानकारी के मुताबिक, दीपावली के त्यौहार से पहले गुरु-पुष्य का शुभ संयोग वर्षों बाद बना है। ऐसे में नक्षत्रों और घड़ी के संयोग ने कोरोना से परेशान बाजार में फिर से रौनक हुई है। दरअसल कल छह बजते-बजते ज्वैलरी के शोरुम और सराफा बाजार की दुकानें खुल चुकी थी। ऐसे में इंदौर चांदी-सोना जवाहरात व्यापारी एसोसिएशन के मंत्री अविनाश शास्त्री के मुताबिक, 8 बजे से बाजार में खरीदी शुरू हो चुकी थी। उनके द्वारा बताय आगया है कि आम दिनों में इंदौर में दुकानें ही 10 बजे बाद खुलती है। हमने जो उम्मीद जताई थी बिक्री उससे कही बेहतर रही।

ऐसे में शाम तक सराफा बाजार में ही सोने चांदी की कुल बिक्री का आंकड़ा 55 से 60 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान था।जानकारी मिली है कि पूरे शहर के ज्वैलरी शोरूम और दुकानों की बिक्री की शामिल करने पर आंकड़ा 150 करोड़ तक पहुंच रहा है। ऐसे में वो ग्राहक जिनके परिवार में आने वाले दिनों में शादियां होना है उन्होंने भी आभूषणों की खरीदी इस खास मुहुर्त में कर ली। सोने का अपेक्षाकृत कम दाम ने भी इस साल बाजारों में ग्राहकों को खींचा। बीते वर्षों तक लाइटवैट ज्वैलरी की खरीदी पर जोर देने वाले ग्राहक इस साल उसी बजट में ज्यादा वजन के गहने खरीद सके।