Corona: MP में लागू नई गाइडलाइन, शादी में शामिल हो सकेंगे 250 लोग, जानें खबर

भोपाल। देश-दुनिया में महामारी कोरोना वायरस (Corona Virus) का संक्रमण एक बार फिर रफ़्तार पकड़ रहा है। इसी कड़ी में अब मध्यप्रदेश (MP) में कोरोना की नई गाइडलाइन तैयार हो गई है। नई गाइडलाइन्स के तहत शादी में अधिकतम 250 मेहमान ही शामिल होंगे। शव यात्रा में 50 लोगों को अनुमति रहेगी और बड़े मेलों पर रोक रहेगी। बता दें कि, यह फैसला प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने कोरोना की समीक्षा बैठक में लिया।

ALSO READ: मंत्री सिलावट के निर्देश पर नगर निगम ने न्याय नगर पुल के चौड़ीकरण का काम शुरू

मीटिंग में ही मुख्यमंत्री ने इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर के कलेक्टरों से बात हुई। उन्होंने चारों शहरों में प्रशासन को अलर्ट रहने काे कहा है। बता दें कि, अब प्रदेश में कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर 7 दिन क्वारैंटाइन किया जाएगा। तीसरी लहर का पीक 25 से 30 जनवरी के बीच में रहेगा। इस दौरान प्रदेश में हर दिन 19 से 20 हजार केस प्रतिदिन आ सकते हैं मतलब यह संख्या दूसरी लहर से लगभग डेढ़ गुना होगी। सीएम चौहान ने कहा कि कोरोना के केस बढ़ेंगे, लेकिन पैनिक होने की आवश्यकता नहीं है। सतर्कता बरतना जरूरी है। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, हेल्थ डिपार्टमेंट के अफसर मौजूद हैं।

https://twitter.com/OfficeofSSC/status/1478682191324336128?s=20

साथ ही अब स्कूलों को लेकर कोई नया प्रतिबंध नहीं है। अभी की तरह ही 50% की क्षमता से चलते रहते हैं। एक बच्चे को सप्ताह में तीन दिन ही बुलाया जाएगा इस दौरान पेरेंट्स की अनुमति जरूरी होगी। ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से क्लास लगेंगी। बता दें कि, मध्य प्रदेश में 24 घंटे में 594 कोरोना केस मिले हैं इसी के साथ अब एक्टिव केस बढ़कर 1544 हो गए हैं। संक्रमण दर 1% पर आ गई। इंदौर में एक मौत भी रिपोर्ट हुई है। जबलपुर में भी कोविड सस्पेक्टेड वार्ड में एडमिट दो मरीजों की मौत हुई है, लेकिन प्रशासन का दावा है कि दोनों की रिपोर्ट निगेटिव थी।

वहीं राजधानी भोपाल की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में तय हुआ है कि बुधवार से बिना मास्क घूमने पर अब 200 रुपए फाइन लगेगा। नाइट कर्फ्यू चलता रहेगा। वहीं इंदौर में शादियों में 200 तो शवयात्रा में सिर्फ 50 लोग ही शामिल करने, कोचिंग इंस्टीट्यूट 50% क्षमता से खोलने और धरना-प्रदर्शन पर पूरी तरह से रोक लगाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इस पर अब राज्य सरकार को फैसला लेना हैं।