शरीर में बन रही गैस को कंट्रोल करना हो सकता है भारी, व्हील चेयर का लेना पड़ सकता है सहारा

ब्वॉयफ्रेंड के सामने फार्ट करने में मोरेस को शर्मिंदगी महसूस हो रही थी। इससे उन्होंने कंट्रोल किया और इसको शायद इस बात का अंदाजा नहीं था कि गैस रिलीज न करने के चक्कर में उनकी जान को भी खतरा हो सकता है। लेकिन ऐसा करने पर उन्हें पेट में बहुत तेज दर्द हुआ।

गैस की समस्या वैसे तो बहुत आम बात है। लेकिन आज के इस आर्टिकल में हम आपको बता रहे हैं कि गैस रोकने से क्या समस्या हो सकती, गैस रोकना जानलेवा भी हो सकता है। दरअसल पेट में गैस बनने की समस्या तो वैसे अधिकतर लोगों में होती है, लेकिन कई लोग शर्म की वजह से इसे पास नहीं कर पाते। लेकिन यह समस्या जानलेवा भी साबित हो सकती है। जी हां, ट्यूब नाम की एक ब्राजीलियाई इंफ्लुएंसर के साथ कुछ ऐसा ही हुआ है। उन्हे अपने फार्ट को कंट्रोल करना बहुत ही भारी पड़ गया। जिसके बाद पेट में बहुत तेज दर्द हो उठा और उनकी हालत इतनी ज्यादा खराब हो गई की उन्हें व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ा। ट्यूब 21 वर्ष की है और अपने ब्वॉयफ्रेंड एलीएजर के साथ एक म्यूजिक फेस्टिवल में गई थी। ब्वॉयफ्रेंड के सामने फार्ट करने में मोरेस को शर्मिंदगी महसूस हो रही थी। इससे उन्होंने कंट्रोल किया और इसको शायद इस बात का अंदाजा नहीं था कि गैस रिलीज न करने के चक्कर में उनकी जान को भी खतरा हो सकता है। लेकिन ऐसा करने पर उन्हें पेट में बहुत तेज दर्द हुआ। मोरेस को बहुत ही खतरनाक परिणाम भुगतने पड़े। अपने साथ हुई इस घटना को मोरेस सोशल मीडिया पर एक स्टोरी पोस्ट की। जिसमें वह व्हीलचेयर पर बैठी हुई नजर आई।


हालांकि गैस फसने के चलते हॉस्पिटल में एडमिट होना पड़ सकता हैं। अपनी आपत्ति बताने वाली यह महिला के साथ भी यही हुआ। गैस फसने की वजह से हॉस्पिटल में भर्ती भी होना पड़ा। क्योंकि उसे अपने बॉयफ्रेंड के आगे फार्ट करने में शर्मिंदगी महसूस हो रही थी। जिसकी वजह से उसे काफी ज्यादा दर्द महसूस हुआ। हालांकि गैस की समस्या बहुत ज्यादा गंभीर तो नहीं है, लेकिन यह बहुत ज्यादा गंभीर हो सकती है अगर सही तरह से फार्ट न किया जाए तो।इसकी वजह से पेट में होने वाले तेज दर्द को कई बीमारियों से जोड़कर भी देखा जाता है। आपको बताते है ट्रैप्ड गैस और इसके लक्षण, कारण क्या होते हैं।

ट्रैप्ड गैस वह होती है जब पेट में बनने वाली गैस बाहर नहीं निकल पाती और इस स्थिति को ट्रैप्ड गैस कहा जाता है। यह समस्या किसी के भी साथ हो सकती हैं, क्योंकि ट्रैप्ड गैस से सीने में या पेट में बहुत तेज दर्द उठता है। इसकी वजह से पेट या सीने में उठ रहे दर्द को हार्टअटैक का दर्द भी समझ लेते है। तो इसे अन्य बीमारी से जोड़कर भी समझ लिया जाता है। लेकिन कुछ चीजों के कारण पेट में काफी ज्यादा गैस बनने लगती है और वह बाहर नहीं निकल पाती। जिसकी वजह से कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसीलिए जिन चीजों से अगर लगता है कि गैस बनने की संभावना है, तो उन चीजों का सेवन कम करना चाहिए या फिर सेवन कर रहे हैं तो उसके बाद घूम लेना चाहिए।

Must Read- कपिल शर्मा के शो की जल्द हो सकती है वापसी, इस बार नए कलाकारों को मिलेगी मौका !

ट्रैप्ड गैस के लक्षण

ट्रैप्ड गैस के लक्षण की पहन ऐसे की जा सकती है। अगर आपको सामान्य तौर पर बहुत ज्यादा डकार आ रही हो, पेट में दर्द होना, मरोड़ उठना, पेट में ब्लोटिंग होना, गैस पास करना, पेट फूलना यह ट्रैप्ड गैस के लक्षण है।

ट्रैप्ड गैस के कारण

ट्रैप्ड गैस के मुख्य कारण यह होते हैं कि जब आप खाना खाते हैं, पानी पीते है या फिर थूक निगलते हैं तो कुछ मात्रा में हवा आपके शरीर में प्रवेश कर जाती है और यह पाचन तंत्र में जाकर इकट्ठा हो जाती है। यह हवा आपके पेट के आसपास प्रेशर डालती है। जिस कारण आपको गैस और डकार आती है, लेकिन जब अधिक मात्रा में हवा शरीर में जाती है तो बड़ी परेशानी की समस्या उत्पन्न हो जाती है। एक व्यक्ति के पेट में दो ग्लास कोला जितनी गैस हर दिन बनती है और कई बार किसी बीमारी के कारण भी पेट में गैस बनती है।

सामान्य तौर पर पेट में गैस बनने का कारण बींस, मटर, फ्रूट्स सब्जियां, साबुत अनाज के कारण ही गैस की समस्या होती है। पेट में गैस बनने के और भी कारण है मुख्य तौर पर सोडा या बीयर जैसी चीजों का सेवन करने से भी आपको गैस की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप बहुत स्पीड में खाना खाते हैं या फिर स्ट्रॉ से पानी पीते हैं तो उसके कारण भी गैस की समस्या होती है। इसीलिए आपको सलाह दी जाती है कि फार्ट करने के लिए झिझिक महसूस न करें, बेझिझक पास होने दे नहीं तो इससे कई समस्या उत्पन्न हो सकती है।