बिहार लगातार पिछले कुछ दिनों से चर्चा में बना हुआ है। सबसे पहले यहां पर राजनीतिक पार्टीयों की वजह से उसके बाद शराब पिने से लोगों की मौत होने से सुर्खियों में बना था। लेकिन अब एक बार फिर से चर्चा का विषय बन गया है। प्रदेश में 13 करोड़ की लागत से बना एक पुल ढह गया है। यहां घटना उद्धाटन से पहले ही घट गई है। दरअसल, अगर यह पुल चालु होती तो कई बड़ी दुर्घटना हो सकती थी।

राज्य के बेगूसराय की गंडक नदी पर बना पुल गिर गया है। पुल का अगला हिस्सा ढहने से नदी में जा गिरा। फिलहाल पुल के गिरने से कोई दुर्घटना नही हुई है। अबतक पुल का उद्धाटन नही हुआ है।

अगले हिस्से में दरार

मुख्यमंत्री नाबार्ड योजना के तहत 206 मीटर लंबा बनाया गया था, लेकिन पहुंच पथ नहीं होने के कारण पुल का उद्घाटन नहीं हो सका था। कुछ दिनों पहले ही पुल के अगले हिस्से में दरार देखी गई थी। फिर 15 दिसंबर को पुल में आई दरार को लेकर अधिकारियों को पत्र लिखा गया था और आज (रविवार) सुबह पुल का अगला हिस्सा टूट कर गिर गया।

Also Read : IMD Alert : इन जिलों में 23 दिसंबर तक होगी झमाझम बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

दरअसल, बेगूसराय में उद्घाटन से पहले ही गंडक नदी पर बने पुल का बीच का हिस्सा टूट कर नदी में गिर गया है। पुल का पाया नंबर दो और तीन के बीच का हिस्सा टूटा है।

13 करोड़ की लागत से बना था पुल

साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र के आहोक गंडक घाट किनारे से आकृति टोला चौकी और बिशनपुर के बीच 206 मीटर के पुल का निर्माण हुआ था। निर्माण कार्य साल 2016 में शुरू हुआ था और साल 2017 में पूरा हो गया था।

चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट

साहेबपुर कमाल के रालोजपा नेता संजय यादव ने कहा कि भ्रष्टाचार की वजह से यह पुल टूट कर गिरा है। पुल में दरार आने की शिकायत की गई थी, लेकिन अधिकारियों ने ध्यान ही नहीं दिया। उद्घाटन के पहले ही पुल ढह गया। पुल बनने से दर्जनों गांवों को सुविधा होती, मगर, भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया।