उज्जैन: सावन चल रहा है और इन दिनों हर कोई भोले बाबा की भक्ति में मगन है. भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या आज सुबह उज्जैन पहुंचे और बाबा महाकाल के दर्शन करने के लिए महाकाल मंदिर पहुंचे. लेकिन इस दौरान उनके साथ मौजूद कार्यकर्ताओं और मंदिर समिति के लोगों के बीच झड़प देखी गई.

तेजस्वी सूर्या जब महाकाल मंदिर दर्शन करने के लिए पहुंचे तो कुछ कार्यकर्ता भी उनके साथ गर्भ ग्रह में पूजन अर्चन करने के लिए चले गए. यह देखते हुए अन्य युवा कार्यकर्ताओं ने भी नंदी हॉल में जाने का प्रयास किया. लेकिन सावन महीना होने के चलते गर्भ गृह में प्रवेश प्रतिबंधित है इसलिए उन्हें जाने से रोक दिया गया.

रोकने पर भी यह कार्यकर्ता नहीं माने और नंदी हॉल में लगे हुए बैरिकेट्स को धकेलते हुए बलपूर्वक आगे निकल गए. इस दौरान वहां मौजूद मंदिर के सिक्योरिटी गार्ड और पुलिसकर्मी और कर्मचारी जोर आजमाइश करते दिखे लेकिन कार्यकर्ताओं के सामने बौने साबित हो गए. जब यह सब हो रहा था तब बेरी गेट के पीछे से दर्शन करें आम श्रद्धालु थोड़ा परेशान नजर आए.

Must Read- बैंक खाते को जल्द ही करें आधार से लिंक, रुक सकती है वृद्धावस्था पेंशन

इस पूरी घटना के दौरान जहां मंदिर समिति ने मुंह की खाई तो हाथों-हाथ ही आदेश भी जारी कर दिया कि नंदी हॉल और गर्भगृह में प्रवेश भीड़ के अनुसार शुरू किया जा रहा है. बता दें कि 2 दिन पूर्व ही एक विधायक ने गर्भ ग्रह में पहुंचकर पूजन अर्चन किया था जबकि सावन सोमवार को प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है. आज हुए वाकये में भी राष्ट्रीय अध्यक्ष के सामने अपनी साख बताने की होड़ में मंदिर में जमकर अराजकता फैलाई गई.

अब इसे राजनीति कहें या कुछ और लेकिन जिस तरह से संस्कार, अनुशासन और संस्कृति की महाराजाधिराज के दरबार में अनदेखी की जा रही है. वह बिल्कुल गलत है और इस तरह की हरकत करने वालों को यह सोचना चाहिए कि जो बात उन्हें सहज रूप से स्वीकार करनी है कि यह मंदिर है और यहां पर कुछ चीज वर्जित है तो वर्जित ही कहलाएगी, यह कोई ताकत दिखाने की जगह नहीं है.