Home more आर्टिकल अदाणी पोर्टफोलियो कंपनियों ने आईएचसी के साथ 15,400 करोड़ रुपये के निवेश...

अदाणी पोर्टफोलियो कंपनियों ने आईएचसी के साथ 15,400 करोड़ रुपये के निवेश लेनदेन को पूरा करने की घोषणा

"हमारे व्यापार का यह रणनीतिक विस्तार हमारे निवेश पोर्टफोलियो को व्यापक व विविध बनाने के लिए, आईएचसी की प्रतिबद्धता के अनुरूप है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह लेनदेन लंबे समय तक स्वच्छ ऊर्जा के लिए टर्म प्लान में भारत की व्यापक महत्वाकांक्षा को सीधे और सकारात्मक रूप से प्रभावित करेगा।

अहमदाबाद: अबू धाबी स्थित वैश्विक रणनीतिक निवेश कंपनी, इंटरनेशनल होल्डिंग कंपनी पीजेएससी (आईएचसी) ने आज अदाणी पोर्टफोलियो कंपनियों, अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एजीईएल), अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (एटीएल) और अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड (एईएल) में 15,400 करोड़ रुपये (2 बिलियन अमरीकी डॉलर) के निवेश लेनदेन को पूरा करने की घोषणा की है। आईएचसी, अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड, अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड और अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड को पूंजी प्रदान करेगा, जो भारत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसएक्स) में तरजीही आवंटन मार्ग पर सूचीबद्ध हैं।

आईएचसी के सीईओ और प्रबंध निदेशक सैयद बसर शुएब ने कहा, “हमारे व्यापार का यह रणनीतिक विस्तार हमारे निवेश पोर्टफोलियो को व्यापक व विविध बनाने के लिए, आईएचसी की प्रतिबद्धता के अनुरूप है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह लेनदेन लंबे समय तक स्वच्छ ऊर्जा के लिए टर्म प्लान में भारत की व्यापक महत्वाकांक्षा को सीधे और सकारात्मक रूप से प्रभावित करेगा। यह सौदा संयुक्त अरब अमीरात और भारत के बीच कुल व्यापार का 4.87% का प्रतिनिधित्व करता है, जो 2020 और 2021 के बीच 41 बिलियन अमरीकी डालर तक पहुंच गया है। आईएचसी और अदाणी समूह के बीच यह साझेदारी तेल क्षेत्र से परे संयुक्त अरब अमीरात और भारत के बीच आर्थिक संबंधों को दर्शाती है।”

भारत की कुल बिजली उत्पादन क्षमता 390 गीगावॉट से अधिक है, और रिन्यूएबल एनर्जी 100 गीगावॉट से अधिक है। पिछले साल संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में, भारत सरकार ने घोषणा की थी कि 2030 तक भारत की नॉन-फॉसिल फ्यूल क्षमता 500 गीगावॉट होगी। आईएचसी का निवेश 2030 तक देश को 45 गीगावॉट (भारत की गैर-जीवाश्म ऊर्जा का 9%) की आपूर्ति करने के लिए अदाणी समूह की विकास योजना का समर्थन व गति प्रदान करेगा।

अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक सागर अदाणी ने कहा, “हम आईएचसी के साथ इस ऐतिहासिक लेनदेन को पूरा करके खुश हैं। हम यूएई में सस्टेनेबल एनर्जी, स्वास्थ्य देखभाल, भोजन, इंफ्रास्ट्रक्चर और एनर्जी ट्रांजीशन में एक रणनीतिक निवेशक के रूप में आईएचसी की अग्रणी भूमिका को महत्व देते हैं। यह लेन-देन भारत-यूएई संबंधों को और मजबूत करने का प्रतीक है और हमारे लोगों के व्यापार व विश्वास के लंबे इतिहास को प्रदर्शित करता है। हम भारत, मध्य पूर्व और अफ्रीका के लिए आईएचसी के रणनीतिक दृष्टिकोण को शेयर रह रहे हैं क्योंकि हम इस इंटर-जनरेशनल रिलेशनशिप को शुरू करने जा रहे हैं।”

अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड की वितरण शाखा, अदाणी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड ने वित्त वर्ष 2021 में रिन्यूएबल एनर्जी की स्थिति को 3% से बढ़ाकर वित्त वर्ष 27 तक 60% करने के लिए कानूनी रूप से अनुबंधित किया है। आईएचसी का निवेश इस परिवर्तनकारी यात्रा में एटीएल का समर्थन करेगा। अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक अदाणी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड के माध्यम से, अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने अगले 9 वर्षों में 50 बिलियन अमरीकी डॉलर का निवेश किया है, जो इंडस्ट्रियल एनर्जी और गतिशीलता के डीकार्बोनाइजेशन पर केंद्रित एक नया ग्रीन हाइड्रोजन वर्टिकल बनाता है।
Must Read- दिमाग में धीरे-धीरे पनपकर शरीर में तेज गति से दौड़ने लगती हैं मानसिक समस्याएँ

इंटरनेशनल होल्डिंग्स कंपनी के बारे में:
आईएचसी की स्थापना 1998 में संयुक्त अरब अमीरात में नॉन-आयल बिज़नेस सेक्टर्स में विविधता लाने और विकसित करने की पहल के हिस्से के रूप में की गई थी। ‘अबू धाबी के विजन 2030’ का पालन करते हुए, एडीएक्स सूचीबद्ध कंपनियों की स्थिरता, इनोवेशन और इकोनॉमिक डायवर्सिफिकेशन पहलों को लागू करने का प्रयास करती है, जो अब इस क्षेत्र के सबसे बड़े समूह में से एक है। आईएचसी, एफटीएसई एडीएक्स 15 इंडेक्स (एफएडीएक्स 15) में शामिल है, जो एडीएक्स पर शीर्ष 15 सबसे बड़ी और सबसे अधिक लिक्विड कंपनियों का प्रतिनिधित्व करता है। 2021 में आईएचसी की कुल संपत्ति एईडी 87 बिलियन तक पहुंच गई, जबकि इसी अवधि के लिए कुल राजस्व 303% बढ़कर एईडी 28,562 बिलियन तक पहुंच गया।

आईएचसी का स्पष्ट उद्देश्य अधिग्रहण, रणनीतिक निवेश और बिज़नेस कॉम्बिनेशंस के माध्यम से अपने पोर्टफोलियो को बढ़ाना है। 30 से अधिक संस्थाओं, 21613 कर्मचारियों को मिलाकर, आईएचसी रियल एस्टेट, कृषि, स्वास्थ्य देखभाल, खाद्य एवं पेय, उपयोगिताएँ, उद्योग, आईटी व संचार, खुदरा और अवकाश व कैपिटल सहित कई क्षेत्रों में अपनी होल्डिंग का विस्तार और विविधता लाने का प्रयास करता है।

शेयरहोल्डर की वैल्यू बढ़ाने और ग्रोथ हासिल करने के लिए एक प्रमुख रणनीति के साथ, आईएचसी ऑपरेशनल तालमेल चलाता है और सभी कार्यक्षेत्रों में लागत क्षमता को अधिकतम करता है – यह प्रत्यक्ष स्वामित्व और संयुक्त अरब अमीरात और विदेशों में भागीदारी में प्रवेश के माध्यम से निवेश के अवसरों का मूल्यांकन करना भी जारी रखता है। जैसे-जैसे दुनिया बदल रही है और नए अवसर पैदा हो रहे हैं, आईएचसी अपने, अपने ग्राहकों और अपने भागीदारों के लिए लचीलापन, नवाचार और बाज़ार को फिर से परिभाषित करने पर केंद्रित रहता है।

अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड के बारे में:
अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एजीईएल) भारत स्थित अदाणी ग्रुप का एक हिस्सा है, जिसके पास सबसे बड़े वैश्विक रिन्यूएबल पोर्टफोलियो में से एक पोर्टफोलियो है और 19.8 गीगावाट से अधिक क्षमता के निवेश-ग्रेड के समकक्षों की जरूरतों को पूरा करने वाले ऑपरेटिंग, निर्माणाधीन, अवार्डेड प्रोजेक्ट्स और अधिग्रहण के तहत संपत्तियां शामिल हैं। कंपनी यूटिलिटी-पैमाने पर ग्रिड से जुड़े सोलर और विंड फार्म परियोजनाओं का विकास, निर्माण, स्वामित्व, संचालन और रखरखाव करती है। एजीईएल के प्रमुख ग्राहकों में सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एसईसीआई), नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) और विभिन्न राज्यों के डिस्कॉम शामिल हैं। 2018 में सूचीबद्ध, एजीईएल आज 19 बिलियन अमेरिकी डॉलर की मार्केट-कैप कंपनी है, जो भारत को अपने सीओपी21लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करती है। अमेरिका स्थित थिंक टैंक, मेरकॉम कैपिटल, ने हाल ही में अदाणी ग्रुप को #1वैश्विक सौर ऊर्जा उत्पादन परिसंपत्ति का स्वामित्व रखने वाली कंपनी का दर्जा दिया है।

Must Read- BitMEX ने SPOT EXCHANGE किया लॉन्च, व्यापारियों के लिए उत्पाद की पेशकश का होगा विस्तार

अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड के बारे में:
अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (एटीएल) अदाणी पोर्टफोलियो की ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन बिज़नेस शाखा है। एटीएल 18,875 सीकेएम के संचयी ट्रांसमिशन नेटवर्क के साथ देश की सबसे बड़ी निजी ट्रांसमिशन कंपनी है, जिसमें से 14,279 सीकेएम चालू अवस्था में है और 4,596 सीकेएम निर्माण के विभिन्न चरणों में है। एटीएल मुंबई में लगभग 12 मिलियन+ उपभोक्ताओं को सेवा प्रदान करने वाला एक वितरण व्यवसाय भी संचालित करता है। आने वाले वर्षों में भारत की ऊर्जा आवश्यकता चौगुनी होने के साथ, एटीएल एक मजबूत और विश्वसनीय बनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है

पावर ट्रांसमिशन नेटवर्क और खुदरा ग्राहकों की सेवा करने और 2022 तक ‘सभी के लिए बिजली’ हासिल करने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रहा है।
अधिक जानकारी के लिए www.adanitransmission.com

अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड के बारे में:

अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड (एईएल) अदाणी पोर्टफोलियो की एक इन्क्यूबेशन शाखा है। इन वर्षों में, अदाणी एंटरप्राइजेज ने उभरते बुनियादी ढांचे के व्यवसायों के निर्माण, राष्ट्र निर्माण में योगदान देने और उन्हें अलग-अलग सूचीबद्ध संस्थाओं में विभाजित करने पर ध्यान केंद्रित किया है। अदाणी पोर्ट्स एंड एसईजेड लिमिटेड, अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड, अदाणी पावर लिमिटेड, अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड, अदाणी टोटल गैस लिमिटेड और अदाणी विल्मर लिमिटेड जैसे यूनिकॉर्न का सफलतापूर्वक निर्माण करने के बाद, कंपनी ने मजबूत व्यवसायों के हमारे पोर्टफोलियो के साथ देश को आत्मनिर्भर बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। एईएल अदाणी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड के माध्यम से उद्योगों और गतिशीलता के डीकार्बोनाइजेशन का नेतृत्व कर रहा है। एईएल के रणनीतिक व्यापार निवेश की अन्य अगली पीढ़ी के रूप में एयरपोर्ट मैनेजमेंट, सड़कों, डेटा सेंटर और पानी के बुनियादी ढांचे के आसपास केंद्रित है, जिसमें वैल्यू अनलॉकिंग के लिए महत्वपूर्ण गुंजाइश है।

अधिक जानकारी के लिए देखें: www.adanienterprises.com;

Source : PR