हाईकोर्ट से 25 अवर्स को नहीं मिली राहत, होटल पर चला निगम का हथौड़ा

होटल को तोड़ने की कार्रवाई किए जाने पर 25 अवर्स की ओर से कोर्ट में कार्रवाई पर स्टे लिए जाने की कोशिश की गई. लेकिन पूरे मामले को देखते हुए न्यायमूर्ति विजय कुमार शुक्ला की कोर्ट ने सुनवाई के बाद किसी भी तरह की राहत दिए जाने से इंकार कर दिया.

इंदौर: बीते दिनों इंदौर (Indore) के होटल 25 अवर्स में छेड़खानी , बलात्कार और अश्लील वीडियो बनाने के मामले सामने आए थे. जिसके बाद पुलिस-प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की थी. वहीं, मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुहीम चलाई गई और होटल की रिमूवल कार्रवाई शुरू की जाएगी. यह कार्रवाई निगम द्वारा होने जा रही है. करवाई के तहत होटल पर बुलडोजर चलाया जा रहा है.

होटल को तोड़ने की कार्रवाई किए जाने पर 25 अवर्स की ओर से कोर्ट में कार्रवाई पर स्टे लिए जाने की कोशिश की गई. लेकिन पूरे मामले को देखते हुए न्यायमूर्ति विजय कुमार शुक्ला की कोर्ट ने सुनवाई के बाद किसी भी तरह की राहत दिए जाने से इंकार कर दिया. कोर्ट में हुई सुनवाई में नगर निगम की ओर से अधिवक्ता पुष्यमित्र भार्गव ने अपना पक्ष रखते हुए बताया कि यह होटल बिना अनुमति के बनाई गई थी और नोटिस के बाद भी अवैध निर्माण नहीं हटाया जा रहा है, जिसके चलते नगर निगम कार्रवाई कर रही है. वहीं बीते दिनों नाबालिक के साथ हुई घटना का जिक्र भी इस सुनवाई में किया गया जिसको देखते हुए हाईकोर्ट की ओर से 25 अवर्स को स्टे नहीं दिया गया.

Must Read- Time Travel of Age: अब 60 की उम्र में 30 का दिखेगा व्यक्ति, वैज्ञानिकों ने विकसित की नई तकनीक

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, बीते दिनों एक नाबालिक लड़की के साथ बालात्कार और उसकी अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने की शिकायत भंवरकुआ थाने दर्ज कराई गई थी. जानकारी के अनुसार, यह होटल मनदीप भाटिया की बताई जा रही है. मामले पर कार्रवाई करते हुए नगर निगम ने होटल पर बुलडोजर चलाना शुरू कर दिया है.

वहीं , मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj singh Chouhan) ने स्त्रीरोग एवं प्रसूति विशेषज्ञों की कांफ्रेंस के उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान महिलाओं के पक्ष में कई बातें कही है. उन्होंने कहा कि, “माताओं, बहनों का सम्मान नहीं करने वालों के खिलाफ हम सिर्फ एफआइआर नहीं करते बल्कि उन्हें आर्थिक रूप से तोड़ देते हैं. उनके घरों पर बुलडोजर चला देते हैं ताकि संदेश मिल जाए कि महिला पर अत्याचार की क्या सजा हो सकती है.”