इंदौर (Indore News) : मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने जारी वित्तीय वर्ष में एक अप्रैल से लेकर पंद्रह सितंबर तक पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में औसतन बारह फीसदी ज्यादा बिजली वितरित की है। इंदौर, देवास, खरगोन, बुरहानपुर में 14 फीसदी से ज्यादा बिजली वितरित हुई है। जारी वित्तीय वर्ष में मालवा-निमाड़ अंचल में अब तक 1046 करोड़ यूनिट बिजली का गुणवत्तापूर्ण वितरण हो चुका है।

मप्रपक्षेविविकं इंदौर के प्रबंध निदेशक श्री अमित तोमर ने बताया कि वर्ष 2020 के दौरान एक अप्रैल से पंद्रह सितंबर तक कंपनी क्षेत्र में कुल 935 करोड़ यूनिट बिजली वितरित हुई थी। इस वर्ष समान अवधि में कुल 1046 करोड़ यूनिट बिजली का वितरण हुआ है। प्रबंध निदेशक श्री तोमर ने बताया कि सबसे ज्यादा मांग इंदौर, खरगोन, देवास, बुरहानपुर जिले में देखी गई है, जो 14 फीसदी से ज्यादा है।

कंपनी स्तर पर औसत लगभग 12 फीसदी ज्यादा बिजली वितरित हुई है। इस वर्ष इंदौर शहर व इंदौर ग्रामीण क्षेत्र में कुल 297 करोड़ यूनिट बिजली का रिकार्ड स्तर पर वितरण हुआ है। बुरहानपुर में 42 करोड़ यूनिट से ज्यादा, खरगोन में 111 करोड़ यूनिट, देवास जिले में जारी वित्तीय वर्ष में अब तक 90 करोड़ यूनिट बिजली वितरित की जा चुकी है। इस अवधि में अन्य 11 जिलों में भी औसत 2 से लेकर 12 फीसदी ज्यादा बिजली वितरित हुई है। प्रबंध निदेशक श्री तोमर ने बताया कि जारी सितंबर माह के पंद्रह दिनों में ही कंपनी क्षेत्र में करीब 84 करोड़ यूनिट बिजली का वितरण हो चुका है।

आपूर्ति की सतत मानिटरिंग
प्रबंध निदेशक श्री तोमर ने बताया कि ऊर्जामंत्री श्री प्रद्युम्नसिंह तोमर के निर्देशानुसार आपूर्ति पर सतत मानिटरिंग की जाती है। कार्यपालक निदेशक स्तर के अधिकारी की टीम मानिटरिंग करती है। जहां भी तकनीकी कठिनाई देखी जाती है, वहां तुरंत समाधान किया जाता है।