Breaking News

हाथ में मौली या कलावा बांधने से पहले ये खबर जरुर पढ़ ले

Posted on: 14 Sep 2018 11:33 by Ravi Alawa
हाथ में मौली या कलावा बांधने से पहले ये खबर जरुर पढ़ ले

हमारे हिंदू धर्म में पूजा-पाठ, धार्मिक अनुष्ठान या फिर कोई भी मांगलिक कार्य हो तों हाथ की कलाई पर लाल धागा यानी कलावा बांधने की परंपरा है. कलावा को दूसरे शब्द में मौली या रक्षासूत्र भी कहा जाता है.

Via

जब भी कोई से शुभ कार्य की शुरुआत की जाती है तो उस समय या नई वस्तु खरीदने पर हम उसे कलावा/मौली बांधते हैं ताकि वह हमारे जीवन में शुभता प्रदान करे। कलावा/मौली कच्चे सूत के धागे से बनाई जाती है. यह लाल, पीले, या दो रंगों या पांच रंगों की होती है. शास्त्रों के अनुसार कलावा बांधने की परंपरा की शुरुआत देवी लक्ष्मी और राजा बलि ने की थी. माना जाता है कि कलाई पर इसे बांधने से आने वाले संकट से रक्षा होती है.

Via

इसके अलावा वैज्ञानिक दृष्टि से मौली के कई फायदे है. यह स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। शरीर विज्ञान के अनुसार शरीर के कई प्रमुख अंगों तक पहुंचने वाली नसें कलाई से होकर गुजरती हैं. कलावा बांधने से इन नसों की क्रिया नियंत्रित रहती है. इससे त्रिदोष यानी वात, पित्त और कफ का सामंजस्य बना रहता है. इसका मतलब है कि कलाई में मौली बांधने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है.

Via

इसके साथ ही कलावा बांधने से अगर कोई सी बीमारी है तो वह भी नहीं बढ़ती है. पुराने जमाने में घर परिवार के लोगों में देखा गया है कि हाथ, कमर, गले और पैर के अंगूठे में कलावा या मौली का प्रयोग करते थे. जो कि स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी था. माना जाता है कि कलावा बांधने से रक्तचाप, हृदय रोग, मधुमेह और लकवा जैसे गंभीर रोगों से काफी हद तक बचाव होता है.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com