समुद्र बना मौत का पर्याय! पानी में घुल रहा ‘तेज़ाब’

0
71

नई दिल्ली: अगर आप समुद्र में जाने के शौकीन हैं या उसमे सर्फिंग करने के शौकीन हैं तो आप सावधान हो जाइए. जी हां, दुनियाभर के समुद्र में एसिड की मात्रा अब तेजी से बढ़ती जा रही है. यानी समुद्र की लहरों में तेज़ाब की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है. इसके पीछे और कोई वजह नहीं बल्कि इंसानों द्वारा लगातार फैलाया गया प्रदूषण ही है. इस प्रदूषण के चलते समुद्र में अमोनिया गैस बन रही है.

एक रिपोर्ट के अनुसार, समुद्र को नुक्सान पहुंचाने वाली नाइट्रस ऑक्साइड गैस की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है. जिसके चलते ओजोन लेयर को काफी नुक्सान पहुंच रहा है. नाइट्रस ऑक्साइड ओजोन को परत पहुंचाने वाली अहम ग्रीन गैसों में से एक है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विशेषज्ञों ने उत्तरी प्रशांत महासागर में पड़ने वाले होकाइदो और कुरील द्वीप के पास नाइट्रस ऑक्साइड का निरक्षण किया. जिस दौरान यह पता लगा कि पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा इंसानों की वजह से लगातार बढ़ती जा रही है. जिसके चलते समुद्रों में एसिड का स्तर बढ़ता जा रहा है.

विशेषज्ञों के मुताबिक, साल 2100 तक दुनिया के लगभाग सभी समुद्रों में नाइट्रस ऑक्साइड का स्तर 185 से 481 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा. नाइट्रस ऑक्साइड का प्रभाव कार्बन डाइऑक्साइड से करीब 298 गुना है.

बता दें कि अगर समुद्रों में एसिड की मात्रा ऐसी ही बढ़ती रही तो दुनिया खत्म हो जाएगी. सभी समुद्री जीव-जंतुओं की मौत हो जाएगी. जिसके चलते पूरी फ़ूड साइकिल पर भारी असर देखने को मिलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here