जोमैटो के बाद अब स्विगी के कर्मचारीओ को बड़ा झटका लगने वाला है, ऑनलाइन फूड डिलिवरी कंपनी स्विगी अपने कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है. स्विगी करीब 250 कर्मचारियों को कंपनी से बाहर का का रास्ता दिखा सकती है जो कुल कर्मचारियों को 3 से 5 फीसदी वर्कफोर्स है. वहीं रिपोर्ट के मुताबिक छंटनी की संख्या बढ़ भी सकती है.

स्विगी के अलग अलग डिपार्टमेंट के लोगो पर मंडराया खतरा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सप्लाई चेन, ऑपरेशन, कस्टमर सर्विस और टेक्नोलॉजी भूमिकाओं में शामिल लोग इस छंटनी में प्रभावित होंगे. इकॉनमिक टाइम्स के मुताबिक स्विगी ने इमेल रेस्पांस में कहा कि फिलहाल कोई छंटनी नहीं हुई है लेकिन भविष्य में या इस महीने छंटनी से इंकार नहीं किया सकता है. स्विगी ने कहा है कि, हमने अपना प्रदर्शन चक्र अक्टूबर में समाप्त किया और सभी स्तरों पर रेटिंग और प्रोमोशन दिया है. कंपनी ने कहा कि हर साइकिल में प्रदर्शन के आधार पर लोगों के बाहर निकलने की उम्मीद करते हैं.

फंडिंग की कमी और निवेशकों द्वारा मुनाफा बनाने को लेकर चिंता जाहिर करने के बाद ऐसी टेक फर्म लगातार कर्मचारियों की छंटनी कर रही है. कंपनी के एक सूत्र के मुताबिक, स्विगी के मानव संसाधन प्रमुख गिरीश मेनन ने कर्मचारियों को हाल ही में संपन्न टाउन हॉल में प्रदर्शन आधारित एग्जिट के बारे में सूचित किया था. कंपनी अपनी टीमों की रिस्ट्रक्चरिंग करने में जुटी है. ब्रोकरेज फर्म जेफ्फरीज के मुताबिक जनवरी से जून के बीच स्विगी को 315 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है जो अपने प्रतिद्वंदी जोमैटो के 50 मिलियन डॉलर से बहुत ज्यादा है.

पहले भी की जा चुकी है छटनी

इससे पहले जोमैटो में छंटनी की जा चुकी है. पिछले महीने खबर आई थी कि छंटनी से 100 कर्मचारियों की छंटनी की खबर आई थी. ये एंप्लाइज कंपनी के अलग-अलग फंक्शन्स जैसे प्रोडक्ट, टेक, कैटलॉग, मार्केटिंग से जुड़े थे. जोमैटो की कुल वर्कफोर्स में से 4 फीसदी लोगों को नौकरी से निकालने की योजना है.