Index Medical College के छात्र ने रैगिंग की वजह से दी जान, प्रबंधन बोला- शिकायत नहीं मिली

Shocking News

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर के इंडेक्स मेडिकल कॉलेज (Index Medical College) के छात्र ने आत्महत्या कर ली। उसने खुद को कॉलेज कैम्पस में बने होस्टल के रूम में फांसी पर चढ़ा लिया। बताया जा रहा है कि, छात्र कॉलेज हॉस्टल में ही रहता था। छात्र के फांसी लगाने की खबर तब मिली जब दोपहर में उसका दोस्त कॉलेज से आया और उसने देखा कि, चेतन का शव फंदे पर लटका हुआ है। इसके बाद उसने घटना की जानकारी कॉलेज प्रबंधन को दी। इसके बाद कॉलेज की सूचना पर पहुंची पुलिस ने कमरे में पहुंचकर शव को उतारा और जिला अस्पताल पहुंचाया।

ALSO READ: Pakistan News: कम नहीं हो रही इमरान खान की मुश्किलें, अब MQM ने भी छोड़ा साथ

अस्पताल में उसे मृत घोषित कर दिया गया। वही छात्र के परिजनों से बात करने पर उन्होंने सीनियर्स द्वारा रैगिंग लेने का आरोप लगाया। पुलिस सुसाइड नोट और आरोपों की जांच कर रही है। पुलिस ने बताया कि, मृत छात्र की पहचान चेतन पाटीदार (22 वर्ष) पुत्र दिनेश पाटीदार निवासी ग्राम मौलाना जिला उज्जैन के रूप में हुई है। परिजनों के मुताबिक चेतन ने इसी साल 28 फरवरी को इंडेक्स मेडिकल कॉलेज (Index Medical College) में एडमिशन लिया था। वह पहले सेमेस्टर में ही पढ़ाई कर रहा था और 8 दिन पहले वह घर भी आया था।

ALSO READ: परसा खदान के समर्थन में ग्रामीणों ने उठाया बड़ा कदम, रायपुर करेंगे कूच !

इसके साथ ही चेतन के जीजा विजय पाटीदार का कहना है कि चेतन को कॉलेज के सीनियर होस्टल और कालेज में परेशान कर रहे थे और रैगिंग कर रहे थे। यह बात उसने अपने पिता को भी बताई थी। जिसके बाद पिता ने उसे अलग कमरा लेकर रहने की सलाह दी थी। इस मामले में उन्होंने डीन को एक लेटर भी लिखा था। लेकिन डीन ने यह कहते हुए मना कर दिया कि अगर बाहर रहना है तो कॉलेज छोड़ना पड़ेगा। जिसके बाद से चेतन तनाव में चल रहा था। इसके बाद इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के डीन ने अपना पक्ष रखा।

डीन डॉ. जीएस पटेल ने कहा कि सुबह 9 बजे उसके रूममेट ने साथ में कॉलेज जाने की बात कही थी लेकिन वह तबीयत खराब होने की बात करते हुए नही पहुंचा था। इसके साथ ही उन्होंने इस बात से नकारते हुए कहा कि रूम बदलने या होस्टल छोड़ने को लेकर उन्हे कोई लेटर नहीं मिला है। वहीं रैगिंग को लेकर भी उनके पास तक जानकारी नहीं आई। अगर इस मामले में कोई सीनियर छात्र ने रैगिंग की होगी तो उसके खिलाफ कारवाई करेंगे।