शेयर बाजार : 8 प्रतिशत तक उछला टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड का शेयर, निवेशकों को दे सकता है बड़ा मुनाफा

पिछले कुछ समय से वैश्विक बाजार में जारी आर्थिक अनिश्चितता के बीच में भारतीय शेयर बाजार में जिन कंपनियों के शेयर की कीमत में उछाल देखा जा रहा है उनमें से एक है टाटा ग्रुप की टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड (Tata Communications Ltd) । शेयर बाजार के जानकार निवेशकों को टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड (Tata Communications Ltd) में निवेश की सलाह दे रहे हैं।

पिछले कुछ समय से वैश्विक बाजार में जारी आर्थिक अनिश्चितता के बीच में भारतीय शेयर बाजार (Share market) में जिन कंपनियों के शेयर की कीमत में उछाल देखा जा रहा है उनमें से एक है टाटा ग्रुप की टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड (Tata Communications Ltd) । टाटा ग्रुप (Tata Group) की इस कम्पनी का शेयर कल गुरुवार को 8 प्रतिशत के उछाल के साथ खुला। दिनभर में कम्पनी ने अपना पिछला उच्च स्तर पार कर लिया और 1400 रुपए कीमत तक पहुंच गया। इसके बाद टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड के शेयर में बड़ी गिरावट देखी गई। इस बड़ी गिरावट के बावजूद कम्पनी अपने पिछले न्यूनतम स्तर से काफी ऊपर बनी रही। शेयर बाजार के जानकार निवेशकों को टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड (Tata Communications Ltd) में निवेश की सलाह दे रहे हैं।

Also Read-इंदौर: निगम की शर्तों का उल्लंघन करना भवन स्वामी को पड़ा भारी, निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने उठाया सख्त कदम

इन कंपनियों के शेयर्स में भी दिखी तेजी

इस वैश्विक मंदी के बावजूद जिन भारतीय कंपनियों के शेयर्स में तेजी देखी जा रही है और जिन कंपनियों ने अपना 52 सप्ताह का उच्चतम स्तर पार कर लिया है, उनमें अडानी गैस, कोरोमंडल, सीजी पावर एंड इंडस्ट्रियल, बीईएल, कमिंस इंडिया, सीमेंस आदि प्रमुख हैं। शेयर बाजार के अनुभवी इन कंपनियों में निवेश को भी फायदे का सौदा बता रहे हैं और निवेशकों को टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड (Tata Communications Ltd) में निवेश की सलाह दे रहे हैं।

Also Read-सीएम केजरीवाल का सिंगापुर दौरा रद्द होना ‘आप’ को नहीं आया रास, एलजी के फैसले को बताया ओछी राजनीति

इन कंपनियों के शेयर्स में दिखाई दिया बिकवाली का दबाव

भारतीय घरेलू शेयर बाजार में जिन कंपनियों में अधिक बिकवाली देखी गई उनमें पॉलिसीबाजार (Policybazaar) ग्लैंड फार्मा (Gland Pharma), थायरोकेयर (Thyrocare) आदि प्रमुख कंपनियां हैं। 52 सप्ताह का अपना न्यूनतम स्तर छू चुकी यह कंपनियां अभी बिकवाली के दबाव में नजर आ रही है और शेयर बाजार के पंडित अभी इन कंपनियों में किसी भी तरह के निवेश से बचने की सलाह निवेशकों को दे रहे हैं।