सीएम केजरीवाल का सिंगापुर दौरा रद्द होना ‘आप’ को नहीं आया रास, एलजी के फैसले को बताया ओछी राजनीति

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिंगापुर जाने की अनुमति नहीं मिलने की वजह से अब राजनीति गर्माती दिखाई दे रही है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिंगापुर द्वारे पर जाने की अनुमति नहीं मिल पा रही है. जिसके चलते अब राजनीति गरमा गई है. यह विवाद केंद्र से लेकर एलजी तक पहुंच गया है. बता दें सिंगापुर में मेयरों की एक बैठक होने वाली है जिसमें अरविंद केजरीवाल शामिल होना चाहते हैं. वहां दिल्ली मॉडल पर बात करना चाहते हैं लेकिन एलजी वीके सक्सेना ने उनकी मांग को खारिज कर दिया है.

इस विवाद पर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनोज सिसोदिया का रिएक्शन सामने आया है. उन्होंने कहा कि यह कौन सी राजनीति है जिसकी वजह से केजरीवाल को सिंगापुर जाने से रोका जा रहा है. उन्होंने कहा कि मेयर कांफ्रेंस का हवाला देते हुए फाइल लौटा दी गई है. उन्हें वहां नहीं जाने की सलाह दी गई है यह सब ओछी राजनीति के चलते किया गया है.

Must Read- संभागायुक्त डॉ शर्मा ने ली कलेक्टर्स की कॉन्फ्रेंस, इन विषयों पर हुई चर्चा

इस पूरे विवाद का एलजी वीके सक्सेना का कहना है कि केजरीवाल जिस बैठक का हिस्सा बनना चाहते हैं, वो मेयरों की है. वहां पर किसी भी मुख्यमंत्री की जरूरत नहीं है. एलजी ने इस बात पर भी ज़ोर दिया है कि बैठक में Urban Governance के अलग-अलग मुद्दों पर चर्चा की जाने वाली है. दिल्ली में यह सारे मामले NDMC, MCD और DDA द्वारा संभाले जाते हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री का वहां जाना एक गलत उदाहरण पेश करेगा.