मध्यप्रदेश के रिटायर आईएएस ने किया निजी बंगले में अवैध निर्माण, भोपाल कोर्ट में देना होगा जवाब

कोर्ट ने पेशी से पहले भोपाल नगर निगम ने अवैध निर्माण को लेकर सभी आर्किटेक्ट को नोटिस जारी किया। निगम ने नोटिस जारी कर पिछ्ले तीन साल में जारी भवन अनुज्ञा और निर्मित भवन के फोटो के साथ तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है।

भोपाल नगर निगम ने बरखेड़ी खुर्द गांव में स्थित व्हीसप्रिंग प्राल्मस कॉलोनी में अवैध निर्माण को लेकर मामला सामने आया है। दरअसल व्हीसप्रिंग प्राल्मस कॉलोनी में जुलानिया को 10 हजार वर्गफीट के प्लाट पर 600 वर्गफीट निर्माण की अनुमति मिली थी। लेकिन उन्होंने लगभग 7000 वर्गफीट का निर्माण कर लिया। जिसके बाद अवैध निर्माण को हटाने के लिए रवींद्र जैन ने भोपाल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

अवैध निर्माण को हटाने के लिए जब कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया। जिसके बाद कोर्ट ने जुलानिया और आयुक्त नगर निगम से 24 जून तक जवाब मांगा है। हालाकि कोर्ट ने पेशी से पहले भोपाल नगर निगम ने अवैध निर्माण को लेकर सभी आर्किटेक्ट को नोटिस जारी किया। निगम ने नोटिस जारी कर पिछ्ले तीन साल में जारी भवन अनुज्ञा और निर्मित भवन के फोटो के साथ तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है।

Must Read- Earthquake : अफगानिस्तान में भूकंप से मरने वालों की संख्या पंहुची 950 और 610 से अधिक लोग हुए घायल

अवैध निर्माण के चलते नगर निगम ने आर्किटेक्ट को दोषी बताते हुए उनका पंजीयन निरस्त करने की चेतावनी दी है। तो वहीं कोर्ट ने 24 जून तक जुलानिया और आयुक्त नगर निगम से जवाब मांगा है।