राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तीन दिवसीय बैठक रतलाम में हुई शुरू, इन योजनाओं पर किया जाएगा विचार

रतलाम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तीन दिवसीय बैठक का शुभारंभ हो गया है.

रतलाम में आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मालवा प्रांत की तीन दिवसीय बैठक आरंभ हुई. इस बैठक में कार्य विस्तार मिलन मंडली कुटुंब प्रबोधन और संघ के शताब्दी वर्ष में संघ के कार्य को प्रत्येक गांव तक पहुंचाने की योजना पर विचार विमर्श किया जाएगा.

बैठक के उद्घाटन सत्र में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए क्षेत्र प्रचारक दीपक वीस्पुते ने स्वराज प्राप्ति में संघ के कार्यकर्ताओं के सहयोग की सराहना की. उन्होंने कहा कि स्वयंसेवक संघ ही स्वतंत्रता आंदोलन में देश के सभी वर्गों के योगदान को समाज के बीच लेकर गया और क्रांतिकारियों के बलिदान की गाथा को पुनः स्थापित करने का काम किया.

राष्ट्रीय भाव जागृत करने के लिए संघ के कार्यकर्ता हर घर तिरंगा अभियान सहित अन्य सामाजिक संगठनों द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में उत्साह पूर्वक भाग लेते हुए इस अभियान को सफल बनाने के लिए मोहल्ला ग्राम समाज और प्रबुद्ध जनों के बीच बैठकों का आयोजन करेंगे. घुमंतू समाज जनजाति ग्रामों शहरी सेवा बस्तियों में तिरंगा वितरण और राष्ट्रगान का प्रशिक्षण दिया जाएगा.

Must Read- अलग ही किस्म के अधिकारी रहे हैं आईएएस डॉ वरदमूर्ति मिश्रा, अब बनाएंगे राजनीतिक पार्टी

संघ स्थापना के शताब्दी वर्ष में शाखा मिलन और मछलियों के माध्यम से देश के हर गांव तक संघ के कार्य को ले जाने का संकल्प लिया गया है. संघ के कार्यकर्ता सद्भाव बैठक और सामाजिक संपर्क के जरिए समरसता का कार्य पूर्ण करने में लगे हुए हैं.

उन्होंने बताया कि प्रकृति हमें परमात्मा के दर्शन करा दी है और पर्यावरण संरक्षण में बड़ी संख्या में पेड़ लगाते हुए संघ के कार्यकर्ता अपना सहयोग दे रहे हैं. पानी के संवर्धन और प्लास्टिक मुक्त पर्यावरण बनाने के लिए जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जा रहा है. हरित ग्रह और हरित मिलन जैसे कार्यक्रम भी संघ के कार्यकर्ता चला रहे हैं और लोगों से इस जीवन शैली को अपनाने का आग्रह कर रहे हैं.

बैठक शुरू होने से पूर्व मालवा प्रांत के कार्यवाहक शंभू प्रसाद गिरि ने स्वराज अमृत महोत्सव के तहत स्वतंत्रता आंदोलन में मालवा निमाड़ के योगदान और क्रांतिकारियों पर आधारित चित्र प्रदर्शनी का दीप प्रज्वलन करते हुए उद्घाटन किया. इस बैठक में मालवा प्रांत के सभी जिले की टोलियां सहित विभाग और प्रांत कार्यकारिणी के कार्यकर्ता शामिल हुए.