Home देश गुजरात 19 साल PM मोदी ने सहे हैं झूठे आरोप, मैंने देखा है...

19 साल PM मोदी ने सहे हैं झूठे आरोप, मैंने देखा है उनका दर्द – अमित शाह

नरेंद्र मोदी ने सहे हैं झूठे आरोप ,मैंने देखा है उनका दर्द बोले अमित शाह ,राजनीति से जुड़े पत्रकार तथा NGO के द्वारा झूठा प्रचार करके मोदी की छवि को धूमिल करने के प्रयास किए गए ,गोधरा ट्रैन अग्निकाण्ड थी दंगों की वजह

आज मिडिया को दिए साक्षात्कार में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने 2002 के गुजरात दंगों पर अपनी बात कही। उन्होंने बताया गुजरात दंगों के संदर्भ में पीएम नरेंद्र मोदी(PM Narendra Modi) पर लगे सभी आरोप निराधार पाए गए हैं। यह सभी आरोप राजनैतिक द्वेष के चलते उनके ऊपर लगाए गए थे, जबकि तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अपनी भूमिका न्यायसंगत निभाई गई थी। अमित शाह ने आगे कहा की 19 सालों तक नरेंद्र मोदी ने झूठे आरोपों का मजबूती से सामना किया तथा देश की न्याय पालिका पर अपना विश्वास बनाए रखा ।

Read More : Vidya Balan ने कर दी ऐसी हरकत की छिपाना पड़ा मुंह, देखें वीडियो

प्रचार तंत्र के माध्यम से बनाई गई थी नरेंद्र मोदी नकारात्मक छवि

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने साक्षात्कार में आगे बताया कि राजनैतिक द्वेष के चलते कुछ राजनीति से जुड़े पत्रकार तथा कुछ गैर सरकारी संगठनों (NGO)के द्वारा गुजरात दंगों के संदर्भ में झूठा प्रचार करके नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल करने के कई प्रयास किए गए थे। जिसके पीछे एक मजबूत प्रचार तंत्र काम कर रहा था जोकि विरोधी राजनैतिक दलों के इशारे पर काम कर रहा था।

Read More : Indore : पुष्यमित्र भार्गव के समर्थन में उतरा रिक्शा चालक महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को सौंपा पत्र

गोधरा ट्रैन अग्निकाण्ड को बताई दंगों की वजह

मिडिया से बात करते हुए अमित शाह ने बताया की 2002 के गुजरात दंगों की मुख्य वजह गोधरा में ट्रैन में हुआ अग्निकाण्ड थी जबकि नरेंद्र मोदी पर इस दंगे के संदर्भ में लगे सभी आरोप झूठे और निराधार थे । न्यायिक प्रक्रिया पर भरोसा जताते हुए नरेंद्र मोदी ने अपनी बनाई जा रही नकारात्मक छवि को ठीक करने के लिए अलग से प्रयास कभी नहीं करे और साथ ही चुपचाप इन आरोपों को सहते रहे। अंत में सत्य की जीत हुई और सुप्रीम कोर्ट ने माना कि गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने दंगे रोकने के भरपूर प्रयास किए ,उनकी ओर से इस विषय में कोई कोताही नहीं बरती गई।

Exit mobile version