Indore News : अब हर बेटी बनेगी ‘साइबर स्मार्ट बेटी’

इंदौर (Indore News) : महिला अपराधों की रोकथाम एवं उनकी सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए, वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में इंदौर पुलिस द्वारा विभिन्न संस्थाओं के साथ मिलकर, स्कूल/कॉलेज एवं अन्य सार्वजनकि स्थानों पर बच्चों एवं लोगों के बीच पहुंचकर उन्हें, वर्तमान परिदृश्य के अपराधों एवं उनसे बचने के उपायों के संबंध में जागरूक करने के लिये लगातार विभिन्न प्रकार के प्रयास किये जा रहे है।इसी कड़ी में पुलिस आयुक्त नगरीय इंदौर श्री हरिनारायण चारी मिश्र एवं कलेक्टर इंदौर श्री मनीष सिंह के निर्देशानुसार अति. पुलिस उपायुक्त मुख्यालय श्रीमती मनीषा पाठक सोनी एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग श्री आरएन बुधौलिया के मार्गदर्शन में आज दिनांक 25.03.22 को इंदौर पुलिस एवं महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम श्री वैष्णव इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट इंदौर में पहुंची। जहां पर महिला एवं बाल विकास विभाग, इंदौर पुलिस के संयुक्त तत्वाधान में श्री वैष्णव इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट इंदौर की Internal Quality Assurance Cell (IQAC) द्वारा कॉलेज के बीसीए और बीएससी (सीएस/आईटी) प्रथम वर्ष और बीसीए द्वितिय वर्ष के छात्रों के लिए साइबर सुरक्षा पर जागरूकता हेतु एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

Must Read : दाल मिल प्रदर्शनी : कई उत्पाद लांच, 2 हजार से भी ज्यादा व्यापारी हुए शामिल

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्र-छात्राओं को साइबर अपराध के बारे में जागरूकता और सावधानी प्रदान करना था। कार्यक्रम में डॉ. जॉर्ज थॉमस, निदेशक, एसवीआईएम, डॉ. क्षमा पैठंकर, कंप्यूटर विज्ञान विभाग की प्रमुख और आईक्यूएसी समन्वयक, डॉ जयेश तिवारी, कार्यक्रम समन्वयक, बीएससी (सीएस और आईटी), डॉ जितेंद्र जैन, कार्यक्रम समन्वयक, बीसीए डॉ. एकता अग्रवाल, कार्यक्रम समन्वयक, एमसीए तथा इंदौर पुलिस की ओर से निरीक्षक सुश्री राधा जमोद, उप निरीक्षक श्री शिवम ठक्कर, सहायक उपनिरीक्षक श्री गयेद्र यादव, महिला तथा बाल विकास विभाग इंदौर से श्री भगवानदास साहू एवं ममता फाउंडेशन की सुश्री भारती श्रीवास्तव की उपस्थिति में लगभग 170 छात्र-छात्राओं ने कार्यक्रम में सम्मिलित होकर प्रशिक्षण प्राप्त किया।

इस दौरान करीब 20 विषय विशेषज्ञों द्वारा उपस्थित छात्र-छात्राओं को साइबर अपराध से परिचय करवाते हुए बताया कि हम वर्तमान समय में नित नये आधुनिक तकनीकों का प्रयोग कर रहे है, जिसके कारण हम सभी एक अलग ही आभाषी दुनिया में पहुंच गये है, जिसमें कई सुविधाओं के साथ-साथ हमें कई प्रकार की परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है। अपराधी तत्व द्वारा इन तकनीको का सहारा लेकर हमें टारगेट करते है, और इनसे बचाव का तरीका हमें इस संबंध में ज्यादा से ज्यादा जानकारी रखते हुए सावधानी रखना ही है।

Must Read : Indore News : ठेले जब्त कर हटाई कलेक्ट्रेट से लालबाग तक लगने वाली सब्जी मंडी

इस अवसर पर इंदौर पुलिस के श्री शिवम ठक्कर ने कहा कि वर्तमान समय में अपराधों के तरीके बदल गये है, अपराधी अब नई-नई तकनीकों का सहारा लेकर, नित नये प्रकार के सायबर अपराधों को अंजाम दे रहे, जिसमें उनके साफ्ट टारगेट्स बच्चें, स्टूडेंट्स, महिलाएं एंव बुजुर्ग लोग रहते है। महिलाओं एवं बच्चों के सायबर वर्ल्ड से जुड़ने से उनके साथ सायबर अपराध होने की संभावनाएं भी बढ़ गयी है, जिनसे हम सावधानी रख कर ही बच सकते है।सभी को बताया की सायबर सुरक्षा में सिस्टम सिक्युरिटी, नेटवर्क सिक्युरिटी, एप्लीकेशन सिक्युरिटी एवं इन्फोर्मेशन सिक्युरिटी आदि बहुत ही महत्वपूर्ण होता है वर्तमान में विभिन्न प्रकार के सायबर अपराध जैसे हेकिंग , सायबर थेफ़्ट , सायबर स्टाकिंग , आइडेन्टिटी थेफ़्ट , कंप्यूटर वाइरस, फिशिंग, जॉब फ्रॉड , लोन फ्रॉड आदि ज्यादा हो रहें हैं, इनसे बचने के लिए हम सभी को निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-

1.सोशल मिडिया पर किसी अनजान व्यक्ति से न तो दोस्ती करना है और न ही अपनी निजी जानकारियाँ शेअर करना है.

2.सोफ्टवेअर एवं ऑपरेटिंग सिस्टम को हमेशा अपडेट रखे.

3.अपने सिस्टम में हमेशा एंटी वायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करे.

4.मजबूत पासवर्ड का उपयोग करे एवं उसे गुप्त रखें.

5. किसी भी अज्ञात लिंक पर क्लीक ना करे.

6. असुरक्षित वाई-फाई नेटवर्क का उपयोग ना करे.

7. UPI से पेमेन्ट करने के लिए एक अलग से बैंक अकाउंट खुलवाएं एवं उसमे आवश्यकतानुसार बेलेंस रखें.

8. बैंक सम्बन्धी, एटीएम कार्ड व् ऑनलाइन लेन -देन के समय ध्यान रखने वाली बातों को विस्तार से समझाया।

इसके आलावा उन्हें इंदौर पुलिस द्वारा चलाई जा रही विभिन्न हेल्प लाइन नंबर के बारे में विस्तार से बताया जैसे सायबर हेल्प लाइन नंबर-7049124445, वी केअर फॉर यू -0731-2522111, क्राईम वॉच नंबर-7049124444, Dial 100 आदि के बारे में बताया साथ ही यह बताया की सिटिजन कॉप एप्लीकेशन केसे काम करती हे व् प्रत्येक के मोबाईल में इंस्टाल होनी चाहिए।

वहीं निरीक्षक सुश्री राधा जामोद ने सभी को म.प्र. शासन व पुलिस द्वारा महिला अपराधों की रोकथाम व सुरक्षा के लिये महिलाओं को उनके घर से लेकर स्कूल/कॉलेज, कार्यस्थल से सायबर वर्ल्ड तक उन्हें सुरक्षित माहौल मिलें इसके लिये जागरूकता लाने के प्रयास किये जा रहे है। इसी परिपेक्ष्य मे इस सेशन का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम का संचालन सुश्री भावना काबरा, सुश्री श्रुति पुस्ताके और डॉ कमलेश मालपानी ने किया। अंत में डॉ. जयेश तिवारी, ने महत्वपूर्ण जानकारियों से परिपूर्ण उक्त कार्यक्रम के सफल आयोजन पर सभी को धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया।