श्रद्धा मर्डर केस में अब तक पुलिस के हाथ कई सुराग लगे है। लेकिन ऐसा कोई ठोस सबूत नही मिलने के कारण पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। वही इसके पहले ही मुबंई पुलिस सर्तक होकर काम करती तो अबतक आरोपी आफताब सलाखों के पिछे होता। जैसे-जैसे अहम जानकारियां आती जा रही है, वैसे-वैसे मुबंई पुलिस भी कई सवालों के घेरे में नजर आ रही है।

आखिर पुलिस पर क्यों उठ रहे है सवाल

श्रद्धा केस में मृतका के परिवार वालों ने सितंबर में मुबंई पुलिस को लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। इतना ही नही उन्होंने दिल्ली के रहने वाले आफताब के बारे में भी जानकारी दी थी। लेकिन मुबंई पुलिन ने दिल्ली पुलिस से संपर्क नही किया। वही इसके पहले मुबंई पुलिस को श्रद्धा ने साल 2020 में आरोपी के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी। हालांकि बाद में यह शिकायत वापस भी ले ली गई थी। लेकिन अगर पुलिस पहले ही एक्टीव होकर अपना काम करती तो आज श्रद्धा हमारे बीच जिंदा होती।

दिल्ली पुलिस से कब साधा संपर्क

श्रद्धा के पिता ने सितंबर में मुंबई पुलिस के पास अपनी बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। इसमें पुलिस को आरोपी आफताब के बारे में भी जिक्र किया था। लेकिन पुलिस ने इस केस में कोई एक्सन नही लिया। शिकायत दर्ज करवाने के दो महिने बाद 9 नवंबर को मुंबई पुलिस ने दिल्ली से पुलिस से संपर्क किया। लेकिन जब तक बहुत देर हो चुकि थी।

Also Read : इन छोटी-छोटी गलतियों से हो सकती है private photo और वीडियो Viral, जानिए बचने के आसान तरीके

साल 2020 में क्या हुआ था

साल 2020 में श्रद्धा को आफताब ने पीटा था. तब श्रद्धा ने पुलिस को लिखित शिकायत दी थी। कहा गया था कि आफताब उसे पीटता है और जान से मारने की धमकी देता है। साथ में कहता है कि वह उसे मारकर शरीर के टुकड़े कर देगा. हालांकि, बाद में श्रद्धा ने इस शिकायत तो वापस ले लिया था। लेकिन दो साल बाद आफताब ने उसी अंदाज में हत्याकांड को अंजाम दिया।

आफताब के पॉलीग्राफ टेस्ट का दूसरा दिन

कातिल आफताब से सच उगलवाने के लिए उसका पॉलीग्राफ टेस्ट करवाया जा रहा है। गुरुवार को टेस्ट का दूसरा दिन है. आज आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट 6 से 8 घंटे तक चल सकता है। ये टेस्ट पहले बुधवार को होना था. लेकिन आफताब को 104 डिग्री बुखार आने की वजह से ऐसा नहीं हो पाया था।

वही, आफताब फिलहाल दिल्ली पुलिस की रिमांड में है। कोर्ट में हुई पेशी के बाद खबर आई थी कि उसने कबूल किया है कि गुस्से में उसने श्रद्धा की जान ली। हालांकि, बाद में आफताब के वकील ने कहा कि आफताब ने कोर्ट में कहा है कि श्रद्धा ने उसको उकसाया था। लेकिन कत्ल करने की बात उसने नहीं कबूली है।