Mumbai: प्राइवेट मनी ट्रांसफर कंपनी के सर्वर को हैक कर की करोड़ों की ठगी

indore news

मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई (Mumbai) की सेन्ट्रल रीजन साइबर सेल और क्राइम ब्रान्च की टीम ने एक ठगी का पर्दा फार्श किया है। बता दें कि, टीम ने एक प्राइवेट मनी ट्रांसफर कम्पनी के सर्वर को हैक कर 2.01 करोड़ रुपयों के गबन के मामले में 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मामले के तीनों आरोपी रोहित राठौड़, रफीक पयक और शमशाद खान ने पूरी प्लानिंग से इस ठगी की वारदात को अंजाम दिया था। मिली जानकारी के अनुसार मुख्य आरोपी रोहित राठौड़ ने इस प्राइवेट मनी ट्रांसफर कम्पनी की एक फ्रेंचाइजी ली थी, जिसके जरिए उसे इस फाइनेंस कम्पनी के सर्वर एक्सेस की जानकारी मिल चुकी थी।

ALSO READ: MP News: सूबे अधिकारियों को भी सौंपी चुनावों की जिम्मेदारी

इसके बाद से ही ठगी का कारोबार शुरू हुआ। रोहित राठौड़ नाम का मुख्य आरोपी किसी भी ट्रांजेक्शन को अपनी फ्रेंचाइजी के जरिए रूट करके पैसे ट्रांसफर करने की जगह मनी ट्रांसफर कम्पनी के बिना जानकारी के हैक किए गए सर्वर का इस्तेमाल किया। और सामने वाले के पैसों का ट्रांजेक्शन कर देता था। इसके बाद उन पैसों को अपने और अपने दो आरोपी साथियों के बैक अकाउंट में ट्रांसफर करता रहा। इस तरह राठौड़ ने एक साल में 3000 ट्रांजेक्शन कर मनी ट्रांसफर कम्पनी को भारी चुना लगाया।

आपको बता दें कि, यह मामला उस वक़्त सामने आया जब कंपनी ने सालाना बैंक ऑडिट में 2 करोड़ की हेराफेरी पाई। हालांकि शुरुआती जांच में बस इसी बात की जानकारी मिल पाई कि, यह सर्वर हैक कर ठगी की गई है। जिसके बाद साइबर सेल ने इन तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। ठगे गए 2 करोड़ की रकम कहां गई और किन-किन लोगों के साथ ठगी की गई… इन सारी चीजों की जांच में एजेंसियां जुटी हुई हैं।