RBI के बाद मूडीज से मोदी सरकार को झटका, घटाया GDP ग्रोथ अनुमान

पिछले दिनों रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया द्वारा वित्त वष्र 2019़-20 के लिए जीडीी वृद्धि के अनुमान को घटा दिया गया था। इसी बीच अब क्रेडिट रेटिंग ऐजेंसी मूडीज ने भी इल अनुमान को कम कर दिया है।

0
51
MOODY'S

नई दिल्ली। मोदी सरकार के 2025 तक 5 ट्रिलीयन डाॅलर की इकाॅनामी के लक्ष्य के बीच जीडीपी की ग्रोथ बड़ी चुनौती बनी हुई है। ऐसे में सरकार इसकी वृद्धि पर जोर दे रही है। वहीं आरबीआईग् सहित दुनिया भर की कई रेटिंग ऐजेंसियों द्वारा भारत की जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को घटा दिया गया है। पिछले दिनों रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा वित्त वष्र 2019़-20 के लिए जीडीी वृद्धि के अनुमान को घटा दिया गया था। इसी बीच अब क्रेडिट रेटिंग ऐजेंसी मूडीज ने भी इल अनुमान को कम कर दिया है।

मूडीज की ओर से जारी ताजा रिपोर्ट में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए जीडीपी ग्रोथ का अनुुमान 6.2 फीसदी से घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया है। यानी मूडिस की ओर से जीडीपी ग्रोथ के अनुमान में 0.़4 फीसदी की कटौती की है। हांलसाकि रेटिंग ऐजेंसी ने वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी ग्रोथ 6.6 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। मूडिज ने उम्मीद जताई है कि आगामी वर्षों में ये आंकड़ा बढ़कर 7 फीसदी तक पहंुच जाएगा।

ये है मूडीज का ताजा बयान

मूडिज की ओर से जारी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक 8 फीसदी की जीडीपी ग्रोथ की संभावना निवेश आधारित सुस्ती के चलते कमजार हुई है। साथ ही मांग में कमी और ग्रामीण घरों पर आर्थिक दबाव के कारण भी आर्थिक सुस्ती की समस्या कढ़ी है। मूडीज की ओर से आर्थिक सुस्ती के पीछे उच्च बेरोजगारी दर और गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थान (एनबीआईएफ) के पास कैश किल्लत जैसी समस्याओं का भी जिक्र किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here