इंदौर। इंदौर (Indore) में विश्व हिंदू परिषद की केंद्रीय प्रबंध समिति व प्रन्यासी मंडल की तीन दिवसीय बैठक (three day meeting) अग्रसेन महासभा भवन में आज सम्पन्न हुई। इस बैठक में विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष आलोक कुमार (Alok Kumar) ने बताया कि बैठक में मंदिरों के सरकारी नियंत्रण से मुक्ति, धर्मांतरण, लव जिहाद, मुस्लिम घुसपैठ, जनसंख्या असंतुलन, बढ़ती इस्लामिक जिहादी हिंसा एवं गौ हत्या रोकने के विषयों पर चर्चा हुई और प्रस्ताव मंजूर हुए।

देशभर में हिंदुओं की वर्तमान स्थिति, उनके समक्ष खड़ी चुनौतियों तथा उनसे निपटने के उपायों पर भी विस्तार से चर्चा हुई। बैठक में मजहबी कट्टरता, चुनौती एवं समाधान विषय पर प्रस्ताव पारित (pass motion) करने पर भी विचार किया जा रहा है। विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि लव जिहाद को लेकर 7 राज्यों में कानून बना है। हमने शेष राज्यों और केंद्र सरकार से इस बारे में कानून बनाने, संशोधन करने को कहा है।

Also Read – प्रदेश के युवाओं को नए साल में शिवराज सरकार का बड़ा तोहफा, मिलेगी नौकरियों की भरमार, पढ़े पूरी खबर

विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष आलोक कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि, पिछले साल 10 हजार लोगों की घर वापसी हुई। इस साल जुलाई से दिसम्बर तक 23 हजार लोगों ने फिर हिन्दू धर्म अपनाया है। आलोक कुमार ने कहा कि, हमने अपने कायकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया है कि वे किस तरह से लव जिहाद से जुड़े मामलों में थानों में शिकायत कर सकते हैं।

आलोक कुमार ने कहा कि, समाज को यह कहना होगा कि जिहाद का ये रूप स्वीकार नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यदि हिन्दू समाज पर आक्रमण होगा, तो हम भी आत्मरक्षा के अधिकारों का उपयोग करेंगे। उन्होंने कहा, मुसलमानों को जिहाद का अर्थ जो समझाया गया है कि जो मुस्लमान नहीं है, उनका नुकसान करो, उनकी संपति लूट लो।

जानकारी के लिए आपको बता दे कि इंदौर में 13 सालों बाद विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल व अन्य हिंदू संगठनों की तीन दिवसीय बैठक का आयोजन हुआ। ये बैठक इंदौर के बायपास स्थित अग्रसेन भवन में हुई। यह बैठक सभी हिंदू संगठनों द्वारा कई मुद्दों को लेकर आयोजित की गई थी।