क्या है आर्टिकल 35-A, जो जम्मू-कश्मीर को बनाता है बाकी राज्यों से अलग

0
Arti cle_35_A

What is article 35-A?

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 35 A को लेकर कश्मीर में घमासान मचा हुआ है। इस याचिका को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी एक याचिका दाखिल की गई थी जिसकी सुनवाई 27 अगस्त को होगी। यह एक ऐसा प्रावधान है, जो कई सालों से चर्चा का विषय बना हुआ है। आखिर क्या है आर्टिकल 35-ए जिसको लेकर इतना बचाल मचा हुआ है।Image result for क्या है आर्टिकल 35-A

via

दरअसल आर्टिकल 35-ए आर्टिकल 370 का ही हिस्सा है। अनुच्छेद 35-A को राष्ट्रपति के आदेश के बाद संविधान में जोड़ दिया गया था। खास बात तो ये है कि संविधान सभा से लेकर संसद की किसी भी कार्यवाही में कभी अनुच्छेद 35A को संविधान का हिस्सा बनाने के संदर्भ में किसी संविधान संशोधन या बिल लाने का जिक्र नहीं मिलता है।

कब हुआ लागू-
14 मई 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने एक आदेश पारित क्या था, जिसके बाद ही अनुच्छेद 35-ए को संविधान में जोड़ा गया। राष्ट्रपति का ये आदेश तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की कैबिनेट की सलाह पर जारी हुआ था। जम्मू कश्मीर सरकार उन लोगों को स्थाई निवासी मानती है, जो 14 मई 1954 के पहले कश्मीर में बसे थे।Related image

via

क्या है प्रभाव-
देश के किसी दूसरे राज्य का नागरिक जम्मू-कश्मीर में जाकर स्थाई निवासी के तौर पर बस नहीं सकता. दूसरे राज्यों के निवासी ना कश्मीर में जमीन खरीद सकते हैं और ना ही राज्य सरकार उन्हें नौकरी दे सकती है. इस आर्टिकल की वजह से स्थाई निवासियों को जमीन खरीदने, रोजगार पाने और सरकारी योजनाओं में विशेष अधिकार मिले हैं.Image result for क्या है आर्टिकल 35-A

via

लड़कियों के लिए आलग अधिकार-
जम्मू-कश्मीर की कोई लड़की भारत के किसी अन्य राज्य के लड़के से शादी नहीं कर सकती. यदि कोई लड़की किसी अन्य राज्य के लड़के से शादी कर लेती है तो उसके अधिकार छीन लिए जाते है.Image result for क्या है आर्टिकल 35-A

via

ये है पूरा आर्टिकल-
आर्टिकल 35-ए से जम्मू-कश्मीर सरकार और वहां की विधानसभा को स्थायी निवासी की परिभाषा तय करने का अधिकार मिलता है. इसका मतलब है कि ये आर्टिकल जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को यह अधिकार देता है कि वह ‘स्थायी नागरिक’ की परिभाषा तय कर सके.