इंदौर। मानव दुर्व्यपार के अपराधों एवं महिलाओं एवं बच्चों के विरूद्ध होने वाले अपराधों की रोकथाम हेतु लोगों में जनजागृति लाने के उद्देश्य से पुलिस मुख्यालय भोपाल के निर्देशानुसार चलाए जा रहे जागरूकता अभियान “चेतना” के अनुक्रम में पुलिस आयुक्त नगरीय इंदौर हरिनारायणचारी मिश्र एवं अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (अपराध /मुख्यालय) इंदौर राजेश हिंगणकर के दिशा निर्देशन में इंदौर पुलिस द्वारा मानव दुर्व्यापार संबंधी अपराधों की रोकथाम व महिलाओं एवं बच्चों की सुरक्षा हेतु प्रभावी कार्यवाही के साथ ही लोगों में इस संबंध में सामाजिक चेतना व जन जागरूकता की भावना लाने के लिये प्रयास किए जा रहे हैं।

इसी तारतम्य में पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) निमिष अग्रवाल एवं अति. पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) मनीषा पाठक सोनी व अति.पुलिस उपायुक्त प्रमोद सोनकर के मार्गदर्शन में उक्त चेतना अभियान के तहत पुलिस टीमें विभिन्न स्कूल एवं कॉलेज में पहुंचकर विघार्थियों को मानव दुर्व्यापार संबंधी अपराधों एवं बच्चों के अपहरण आदि से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी देकर उन्हें इन अपराधों के प्रति जागरूक कर रहे है।

 

इसी कड़ी में कार्यालय पुलिस उपायुक्त मुख्यालय के निरीक्षक राधा जामौद, उप निरीक्षक शिवम ठक्कर सउनि गयेंद्र यादव की टीम आज दिनांक 28.09.22 को बी.डी. तोषनीवाल महेश्वरी बार मंदिर विद्यालय छत्रीबाग इंदौर में पहुंची और स्कूल के बच्चों को उक्त चेतना अभियान के तहत मानव दुर्व्यापार संबंधी अपराधों के प्रति जागरूक करते हुए बताया कि अपराधी तत्व बच्चों की मासूमियत का फायदा उठाकर उनका अपहरण कर लेते है और वे लोग बच्चों के साथ किस तरह से दुर्व्यवहार करते हैं एवम उनका शोषण करते हैं बताया तथा हम इससे कैसे बच सकते हैं आदि महत्वपूर्ण जानकारियां देते हुए उन्हें गुड टच एवं बैड टच का ज्ञान भी कराया।

साथ ही उनकों पुलिस द्वारा चलाई जा रही विभिन्न हेल्पलाइन तथा मानव दुर्व्यापार पर जन जागरूकता हेतु बनाए गए पम्पलेट्स वितरित कर, यदि कोई इन अपराधों का शिकार हो या किसी को देखता है तो वह किस प्रकार पुलिस से संपर्क करें इसके संबंध में विस्तार पूर्वक बताया गया।

इसी प्रकार एक अन्य कार्यक्रम में महिला थाना प्रभारी ज्योति शर्मा व महिला सुरक्षा शाखा की निरीक्षक क्लियर डामोर, उनि दुर्गा सूर्यवंशी, आर. वंदना की पुलिस टीम सेंट उमर हाई सेकेंडरी स्कूल न्यू पलासिया इंदौर में पहुंची और वहां के विद्यार्थियों को मानव दुर्व्यापार संबंधी अपराधों के विभिन्न तरीकों एवं इसके रोकथाम हेतु क्या प्रयास किए जा सकते हैं इसके संबंध में बताया गया। उन्हें बताया कि अपराधी तत्व बच्चों एवं लड़कियों के भोलेपन का फायदा उठाकर उन्हें अपना शिकार बना लेते हैं इसलिए हमें सतर्क रहना है किसी के बहकावे में नहीं आना है और यदि इस प्रकार का कोई भी संदिग्ध दिखे तो उसके संबंध में चाइल्डलाइन एवं पुलिस के हेल्पलाइन नंबर पर जानकारी दे सकते हैं।

Also Read: Online Payment: भारतीय रिज़र्व बैंक ऑनलाइन पेमेंट के नियमों में करने जा रहा बदलाव, ग्राहकों को होगा बड़ा फायदा

पुलिस टीम ने उनकों पुलिस द्वारा चलाई जा रही विभिन्न हेल्पलाइन तथा मानव दुर्व्यापार पर जन जागरूकता हेतु बनाए गए पम्पलेट्स वितरित किए। इस संबंध मे बनाई गयी शार्ट फिल्म सुनहरे पंख एवं असली हीरो फिल्म के माध्यम से भी बच्चों को मानव दुर्व्यापार संबंधी अपराधों के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया।